ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश कुशीनगरविशेष सचिव पर्यटन ने किए सवाल तो बगलें झांकने लगे जिम्मेदार

विशेष सचिव पर्यटन ने किए सवाल तो बगलें झांकने लगे जिम्मेदार

कुशीनगर। यूपी सरकार में पर्यटन विभाग के विशेष सचिव अश्वनी कुमार पांडेय ने रविवार...

विशेष सचिव पर्यटन ने किए सवाल तो बगलें झांकने लगे जिम्मेदार
हिन्दुस्तान टीम,कुशीनगरMon, 11 Dec 2023 11:45 AM
ऐप पर पढ़ें

कुशीनगर। यूपी सरकार में पर्यटन विभाग के विशेष सचिव अश्वनी कुमार पांडेय ने रविवार को कुशीनगर में विश्व बैंक सहायतित प्रो-पुअर पर्यटन विकास की करोड़ों की लागत से निर्माणाधीन परियोजनाओं का स्थलीय निरीक्षण किया। विशेष सचिव ने बुद्ध विपश्यना उपवन में चल रहे पर्यटन विकास के कार्यों में गुणवत्ता को लेकर सिकान कंपनी के वरिष्ठ अभियंता एसए खान को जमकर फटकार लगाई। नवनिर्मित तालाबों में जल्द फाउंटेन लगाने के भी सख्त निर्देश दिए। उन्होंने मौजूद अधिकारियों व जिम्मेदारों से करोड़ों रुपये खर्च कर परियोजना की उपयोगिता पर सवाल उठाए, तो सब बगलें झांकने लगे। इस पर सचिव ने गहरी नाराजगी जताते हुए जिम्मेदारों को फटकार लगाई। कहा कि निर्माण में कोई कमी अथवा खामी नहीं मिलनी चाहिए।
पिछले दिनों डीएम ने परियोजनाओं का निरीक्षण करने के बाद कमियां पाकर कार्यदायी संस्था के लोगों को फटकार लगायी थी। पर्यटन निदेशालय को पत्र लिख कर निरीक्षण करने व सतत विकास की अवधारणा का पालन नहीं किए जाने की शिकायत की थी। डीएम ने इस संबंध में पर्यटन सचिव से वार्ता कर उन्हें कुशीनगर आने का निमंत्रण भी दिया था। उसी क्रम में रविवार को निर्माणाधीन परियोजना का स्थलीय निरीक्षण करने विशेष सचिव पर्यटन अश्वनी कुमार पांडेय पहुंचे।

कार्यदायी संस्था गोरखपुर विकास प्राधिकरण व केके कंस्ट्रक्शन कंपनी के जिम्मेदारों से जानकारी हासिल करने के बाद विशेष सचिव ने निरीक्षण में मिली कमियों को दूर करने व निर्माणाधीन परियोजनाओं को उपयोगी बनाने पर जोर दिया। जोर देकर कहा कि सतत विकास की अवधारणा हर विकास कार्य में समाहित होनी ही चाहिए। इसके अलावा निरस्त हो चुकी मैत्रेय परियोजना के लिए अधिग्रहित जमीन का भी अवलोकन किया। राजस्व विभाग के जिम्मेदारों को अलग-अलग हिस्सों में बिखरी जमीन के एकत्रीकरण के लिए भी निर्देशित किया।

इसके पूर्व विशेष सचिव निरस्त मैत्रेय परियोजना की लिए इधर-उधर बिखरी पड़ी जमीन देखी। नेशनल हाइवे व बने भवन की दूसरी मंजिल से जमीन का अवलोकन किया। तत्पश्चात पर्यटन की तरफ 17 करोड़ से अधिक लागत से निर्माणाधीन बुद्धा थीम पार्क के कार्यों का भी निरीक्षण किया। इस परियोजना के लिए ली जाने वाली और भूमि का नक्शा व स्थलीय निरीक्षण कर राजस्व विभाग को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

इस मौके पर एसडीएम योगेश्वर सिंह, नायब तहसीलदार शैलेष सिंह, क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी रविन्द्र कुमार मिश्र, पर्यटन सूचना अधिकारी प्राण रंजन, संग्रहालय अध्यक्ष अमित कुमार द्विवेदी, केसी शर्मा, बीएन तिवारी, मेराज सिद्दीकी, राजस्व निरीक्षक ब्रजेश मणि त्रिपाठी, लेखपाल निलेश रंजन राव, डा.शैलेद्र दूबे, रीतेश दूबे आदि मौजूद थे।

---

डीएम ने दो घंटे तक विशेष सचिव पर्यटन के साथ की विकास कार्यों पर चर्चा

विशेष सचिव पर्यटन के निरीक्षण के उपरांत डीएम उमेश मिश्र, एडीएम वैभव मिश्र एक साथ उनसे मिलने पहुंचे। बंद कमरे में करीब दो घंटे कुशीनगर के पर्यटन विकास पर मंथन किया। डीएम ने बताया कि पर्यटन विकास ऐसा हो, जो एक दूसरे को पवित्रता के साथ जोड़े रखे। वह आने वाले भविष्य में उपयोगी साबित हो। इसके लिए प्रदेश मुख्यालय से दो ऑर्किटेक्ट संजीव शर्मा व नीलिमा साथ आए हैं। रविवार कुछ जगह का उन्होंने अवलोकन किया है। सोमवार को सभी जगहों का स्थलीय निरीक्षण के बाद अपना प्रोजेक्ट तैयार कर प्रस्तुत करेंगे। कुशीनगर के विकास की परियोजनाओं को तैयार करते समय में इनका इस्तेमाल किया जाएगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें