ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश कौशाम्बीयुवक का शव गांव पहुंचा तो अक्रोशित हो गए ग्रामीण व परिजन, हंगामा

युवक का शव गांव पहुंचा तो अक्रोशित हो गए ग्रामीण व परिजन, हंगामा

कोखराज कोतवाली के बैहराना गांव में गुरुवार की दोपहर पोस्टमार्टम के बाद युवक का शव गांव पहुंचा तो परिजन व ग्रामीण आपे से बाहर हो...

युवक का शव गांव पहुंचा तो अक्रोशित हो गए ग्रामीण व परिजन, हंगामा
हिन्दुस्तान टीम,कौशाम्बीThu, 07 Dec 2023 11:15 PM
ऐप पर पढ़ें

कोखराज कोतवाली के बैहराना गांव में गुरुवार की दोपहर पोस्टमार्टम के बाद युवक का शव गांव पहुंचा तो परिजन व ग्रामीण आपे से बाहर हो गए। ग्रामीणों ने हंगामा शुरू कर दिया। बवाल की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। नगर पालिका अध्यक्ष ने सभासदों को गांव में भेजा। इसके बाद मामला शांत हुआ। गम और गुस्से के बीच शाम परिजनों ने संदीपनघाट पर अंतिम संस्कार किया।
बैहराना गांव में मंगलवार की देर रात शराब पीने के बाद सुरेमन (40) पुत्र सैकू, प्रकाश (22) पुत्र स्व.लल्लू, दिनेश (27) पुत्र बदाम व बाबू (30) आपस में भिड़ गए। एक दूसरे पर ईट पत्थर चलाने लगे। देर रात हुई मारपीट में पहले तो बाबू लाल का सिर फट गया व सुरेमन को सिर व छाती में गम्भीर चोटें आई। पुलिस ने घायलों को उपचार के लिए नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया। जहां डाक्टरों ने इलाज के बाद दोनों को प्रयागराज रेफर किया। अस्पताल जाते वक्त रास्ते में बुधवार की दोपहर सुरेमन की मौत हो गई। गुरुवार की दोपहर पोस्टमार्टम के बाद सुरेमन का गांव शव गांव में पहुंचा तो परिजन व ग्रामीणों ने पुलिस के प्रति आक्रोश दिखाते हुए हंगामा किया। परिजन परिवार के भरण पोषण के लिए मुआवजे की मांग करते रहे। हंगामे की सूचना पर सिंघिया चौकी प्रभारी संतोष चौरसिया फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। नगर पालिका भरवारी अध्यक्ष कविता पासी सभासाद विक्रम सिंह, सभासद राकेश कुमार, व सभासद प्रतिनिधि अम्बुज भारतीय मौके पर भेजा। सभासदों ने उग्र लोगों को समझाते हुए नगर पालिका अध्यक्ष से वार्ता कराई। तो उन्होंने मृतक की पत्नी को नगर पालिका में नौकरी दिलाने का भरोसा दिलाया। इसके बाद परिजन शव दफनाने के लिए राजी हुए।

--

पांच मासूम बच्चों के सिर से उठा पिता का साया

कोखराज थाना क्षेत्र के बैहराना गाँव का रहने वाला सुरेमन (40) पुत्र सैकू पल्लेदारी कर अपना परिवार चलाता था। उसकी कमाई से उसके पिता सैकू, पत्नी ननकी देवी व चार बेटियाँ राधा देवी, सोनिका, मोनिका , सुरपुट्टी व बेटा कोरोना का भरण पोषण चलता था। अब सुरेमन की मौत के बाद उसके पांच बच्चों ,पत्नी व पिता का ख्याल कौन रखेगा। यह सोच-सोच कर परिजनों के आंखों से आंशु बंद नही हो रहे है।

--

पात्र होने के बाद भी सुरेमन के परिवार को नहीं मिला आवास

नगर पालिका परिषद भरवारी के वार्ड नम्बर छह बाला जी नगर में बैहराना गांव के अधिकांश लोगों को पीएम व सीएम आवास का लाभ मिला है। पर बेहद गरीब सुरेमन के परिवार को आज तक किसी सरकारी आवासीय योजना का लाभ नहीं मिला है। मृतक के पिता सैकू की माने तो उसने कई बार आवास के लिए फार्म भरा पर सर्वे में आये जिम्मेदारों ने उसे आवास का लाभ नहीं दिया। उसका कहना है कि उसके पास उन्हें देने के लिए रुपये नहीं थे।

--

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें