ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश कौशाम्बीनिराकार परमात्मा का जागृत रूप है शिवलिंग: आचार्य अखिलेश

निराकार परमात्मा का जागृत रूप है शिवलिंग: आचार्य अखिलेश

नगर पालिका परिषद मंझनपुर के साईधाम में चल रहे अमृत शिव महापुराण कथा के दूसरे दिन गुरूवार को कथा व्यास ने कहा कि माता-पिता का सम्मान व गुरूओं के आदर...

निराकार परमात्मा का जागृत रूप है शिवलिंग: आचार्य अखिलेश
हिन्दुस्तान टीम,कौशाम्बीThu, 30 Nov 2023 11:45 PM
ऐप पर पढ़ें

नगर पालिका परिषद मंझनपुर के साईधाम में चल रहे अमृत शिव महापुराण कथा के दूसरे दिन गुरूवार को कथा व्यास ने कहा कि माता-पिता का सम्मान व गुरूओं के आदर से ही हम जीवन में बेहतर मनुष्य साबित हो सकते हैं। शिव महापुराण मोक्ष दायनी है। कथा का श्रवण करने से ही प्राणी पाप बंधन से मुक्त होकर मोक्ष प्राप्त कर लेते है। शिव महिमा का बखान सुन श्र्रोता भाव-विभोर हो गए। शिव के जयघोष से समूचा कस्बा गुंजायमान हो उठा।
कथा व्यास अखिलेश महराज ने शिव महिमा का बखान करते हुए कहा कि धार्मिक आयोजन में पहुंचकर कथा श्रवण करना पुण्य कर्मो से प्राप्त होता है। भगवान शंकर ने अपने भक्तों के कल्याण के लिए विषपान किया था। उसी चलते वह नीलकंठ कहलाए। शंकर इतने भोले है कि जल का लोटा शिवलिंग पर अर्पण करने मात्र से प्रसन्न हो जाते हैं। और भक्त की मनोकामना पूर्ण करते है। शिव को समझें वास्तव में शिव कौन हैं, संपूर्ण चराचर ब्रम्हांड में जो कुछ है जो कुछ नहीं है वे सब शिव हैं। चाहे वह पंचमहाभूत हो या दशा हो। शिव निराकार रूप में भी पूजे जाते है वहीं शिव साकार हैं। निराकार परमात्मा का जागृत रूप है शिवलिंग। शिव विश्व के विश्वनाथ है और महाकाल भी। वह ही ऐसे देवता है जिन्हें देवता भी पूजते हैं, राक्षस भी पूजते है और मनुष्य भी पूजते हैं। शिव महिमा का बखान सुन दर्शक भाव विभोर हो गए। शिव के जयघोष से पूजा पंडाल गुंजायमान हो उठा। इस मौके पर आयोजक केडी द्विवेदी, सुशीला द्विवेदी, हरिणांक द्विवेदी, उमेश शुक्ला, राजेश शुक्ला, बलराम शुक्ला, बल्ली महराज, अमित द्विवेदी, सूरज चौरसिया, नरेन्द्र सिंहआदि सैकड़ो शिव भक्त मौजूद रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें