DA Image
26 जनवरी, 2020|11:25|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अधिवक्ताओं के साथ राजनीतिक दलों ने भरी हुंकार

अधिवक्ताओं के साथ राजनीतिक दलों ने भरी हुंकार

1 / 2पुलिस प्रशासन के खिलाफ जिला मुख्यालय में गुरुवार को अधिवक्ता व राजनीतिक दल एक मंच पर...

अधिवक्ताओं के साथ राजनीतिक दलों ने भरी हुंकार

2 / 2पुलिस प्रशासन के खिलाफ जिला मुख्यालय में गुरुवार को अधिवक्ता व राजनीतिक दल एक मंच पर...

PreviousNext

पुलिस प्रशासन के खिलाफ जिला मुख्यालय में गुरुवार को अधिवक्ता व राजनीतिक दल एक मंच पर आए। पत्रकार उत्पीड़न के विरोध में जुलूस निकालकर पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की गई। साथ ही चौराहा पर मानव श्रृंखला बनाकर जाम लागाया गया। इस मौके पर इंस्पेक्टर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई।

पत्रकार अजय भारतीय को जेल भेजने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। अजय भारतीय के खिलाफ न्यायिक जांच चल रही थी। एडीएम मनोज प्रकरण की मजिस्ट्रेटी जांच कर रहे थे। इसके बाद भी पत्रकार को जेल भेज दिया गया। इससे पुलिस प्रशासन के खिलाफ लोगों में गुस्सा बढ़ गया है। अड़तालिस खंभा में बार एसोसिएशन के महामंत्री राजेंद्र द्विवेदी के नेतृत्व में अधिवक्ताओं की बैठक हुई। इसमें पत्रकार के खिलाफ हुई कार्रवाई की निंदा की गई। इसके बाद अधिवक्ता संघ व कांग्रेस , जनसत्ता दल, समर्थ किसान पार्टी, कोटेदार संघ के कार्यकर्ता बड़ी संख्या में जुलूस की शक्ल में नारेबाजी करते हुए जिला मुख्यालय चौराहा पहुंचे। प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए इंस्पेक्टर मंझनपुर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई। महामंत्री राजेंद्र द्विवेदी, अधिवक्ता गोपालजी शुक्ल, शिवराज भारतीय, कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अरुण विद्यार्थी, जनसत्ता दल के अश्वनी सिंह, इंजीनियर अनिल द्विवेदी ने पुलिस कार्रवाई की निंदा की और कहा कि पुलिस तानाशाही पर उतारु है। मजिस्ट्रेटी जांच के बीच गिरफ्तारी करना गलत है। इस मौके पर पत्रकार, अधिवक्ता व राजनीतिक दलों के लोगों ने मानव श्रृंखला बनाकर करीब आधा घंटा तक चौराहा जाम रखा। इसके बाद पत्रकारों ने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन एसडीएम मंझनपुर को सौंपा।

पुलिस उत्पीड़न के अब उखड़ेंगे गड़े मुर्दे

बार एसोसिएशन के महामंत्री अधिवक्ता राजेंद्र द्विवेदी ने चौराहा पर लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि बहादुरपुर के एक युवक को भी पुलिस पकड़कर लाई थी। उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज था। दूसरे दिन उसकी लाश पेड़ पर लटकती मिली थी। इसके बाद गांव में बवाल हुआ था। इस मामले में सदर कोतवाली पुलिस को जिम्मेदार ठहराया गया था, लेकिन मामले में लीपापोती हो गई। कहा कि इस मामले में उच्च न्यायालय में रिट भी दाखिल की जाएगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Political parties shout with advocates