DA Image
22 अक्तूबर, 2020|5:12|IST

अगली स्टोरी

छुट्टा मवेशी चट कर रहे किसानों की मेहनत

छुट्टा मवेशी चट कर रहे किसानों की मेहनत

चायल तहसील क्षेत्र के गांवों में छुट्टा मवेशी किसानों की मेहनत पल भर में चट कर रहे हैं। नीलगाय के बाद किसान अब छुट्टा मवेशियों से परेशान हैं। क्षेत्र के दर्जनों किसानों ने एसडीएम से शिकायत कर मवेशियों पर रोक लगाने की गुहार लगाई है।

अब तक नीलगाय किसानों के लिए आफत बनी थी। लेकिन अब छुट्टा मवेशियों की संख्या चायल क्षेत्र में बढ़ गई है। इससे क्षेत्र के कसेंदा, मोहम्मदपुर, मनौरी, मखऊपुर, पिपरी, हरदुआ, चरवा और चायल समेत अन्य गांवों में किसानों की कमाई जहां बर्बाद हो जा रही है, वहीं सड़क पर आए दिन मवेशियों के कारण दुर्घटनाएं भी हो रही हैं। बार-बार मांग के बावजूद तहसील प्रशासन की तरफ से कार्रवाई नहीं होने से लोगों में रोष है। सरकार के निर्देश पर गोशाला तो बना दिए गए लेकिन, वहां मवेशियों को रखने और खाने-पीने का कोई भी इंतजाम नहीं है। यमुना की तराई के क्षेत्रों में छुट्टा पशुओं की संख्या दिन ब दिन बढ़ती ही जा रही है। नीलगायों के उत्पात से परेशान ग्रामीण क्षेत्र के लोगों के लिए अब बछड़े, सांड़ भी मुसीबत बन गए हैं। किसानों का कहना है कि ये पशु घंटे-दो घंटे में ही पूरी फसल नष्ट कर रहे हैं। कई छुट्टा पशु खेत से बाहर निकालने का प्रयास करने पर हमला भी कर देते हैं। ग्रामीणों ने छुट्टा पशुओं पर रोकथाम की मांग को लेकर एसडीएम से शिकायत की है।