DA Image
1 नवंबर, 2020|10:22|IST

अगली स्टोरी

विदेशी भंतों ने तपोस्थली में कराया चीवर दान

विदेशी भंतों ने तपोस्थली में कराया चीवर दान

1 / 2कोरोना की वजह से कौशाम्बी तपोस्थली में विदेशी भंतों ने भारतीय उपासकों को कठिन चीवर दान कराया। इसके पहले कंबोडिया मंदिर से श्रीलंका बौद्ध मंदिर तक जुलूस निकाला गया। दोनों मंदिरों में विधिवत भगवान गौतम...

विदेशी भंतों ने तपोस्थली में कराया चीवर दान

2 / 2कोरोना की वजह से कौशाम्बी तपोस्थली में विदेशी भंतों ने भारतीय उपासकों को कठिन चीवर दान कराया। इसके पहले कंबोडिया मंदिर से श्रीलंका बौद्ध मंदिर तक जुलूस निकाला गया। दोनों मंदिरों में विधिवत भगवान गौतम...

PreviousNext

कोरोना की वजह से कौशाम्बी तपोस्थली में विदेशी भंतों ने भारतीय उपासकों को कठिन चीवर दान कराया। इसके पहले कंबोडिया मंदिर से श्रीलंका बौद्ध मंदिर तक जुलूस निकाला गया। दोनों मंदिरों में विधिवत भगवान गौतम बुद्ध की पूजा हुई। भंतों ने गौतम बुद्ध के बताए मार्ग पर चलने का लोगों को संकल्प भी दिलाया।

चौमासा खत्म होने पर रविवार को कौशाम्बी तपोस्थली में स्थित कंबोडिया के बौद्ध मंदिर से बौद्ध भिक्षुओं व उपासकों ने जुलूस निकाला। जुलूस श्रीलंका बौद्ध बिहार पहुंचा। यहां कंबोडिया के भंते चंडेन, श्रीलंका के भंते डॉ. टीश्री विशुद्धि थेरो और म्यांमार के भंते सुक्ख धम्म ने भारतीय उपासकों को चीवर दान कराया। ये चीवर दान बहुत कठिन होता है। उपासकों को कड़ी परीक्षा से गुजरना पड़ता है। दान के बाद उनको संकल्प दिलाया जाता है। चीवर दान के बाद भंतों ने उपासकों को भगवान गौतम बुद्ध की जीवनी के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि भगवान गौतम बुद्ध ने मानवता के लिए राजमहल छोड़ दिया। जंगलों में तपस्या की। लोगों को मानवता का पाठ पढ़ाया। उनका कहना था कि जीव-जंतु सबको जीने का अधिकार है। इनका वध महापाप है। इस महापाप से लोग बचें। इसके बाद लोगों ने विधि विधान से पूजा की और बिहार में ठहरे। इस मौके पर उपासक सुरेश गौतम, बसपा जिलाध्यक्ष शैलेंद्र कुमार, विजय बहादुर मौर्य, रामनरेश मौर्य, मोहनलाल, मनराखन सिंह, कुसवंत कुशवाहा, दीपक गौतम, दारा गौतम, अजीत गौतम, अजय कुमार आदि लोग रहे।

पहली बार नहीं आए विदेशी श्रद्धालु

कोरोना की वजह से चौमासा खत्म होने पर पहली बार ऐसा है कि विदेशी श्रद्धालु नहीं थे। इसके पहले यहां विदेशी श्रद्धालु बड़ी संख्या में शामिल होते थे। इस बार कोरोना की वजह से विदेशी उपासक नहीं आ सके।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Foreign devotees donated chewers in taposthali