DA Image
26 जनवरी, 2020|11:53|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांव के बजाय कॉलेज में रखवा दिए कूड़ेदान

गांव के बजाय कॉलेज में रखवा दिए कूड़ेदान

कड़ा के बिहामिदपुर ग्राम सभा में स्वच्छ भारत मिशन 'खेल' बन गया है। ग्रामीण खुले में कूड़ा न फेंके, इसके लिए गांव में कूड़ेदान रखवाए जाने थे। कूड़ेदान तो रखवाए गए लेकिन तीन, जबकि रकम आठ कूड़ेदान खरीदने के लिए निकाली गई। इसकी जानकारी विभागीय अफसरों को हुई तो मामले में जांच बैठा दी गई है।वित्तीय वर्ष 2019-20 में गांव में कूड़ा करकट खुले में न फेंका जाए, इसके लिए शासन के निर्देश पर गांव-गांव कूड़ेदान रखवाए गए। कड़ा ब्लाक क्षेत्र के बिहामिदपुर गांव में कूड़ेदान रखवाए जाने के नाम पर बड़ा खेल किया गया। ग्राम पंचायत में लगवाने के लिए कूड़ेदान की खरीद तो की गई, लेकिन तीन ही लगवाए गए। जबकि शेष कूड़ेदान देवीगंज में संचालित ग्राम प्रधान के श्री गंगा प्रसाद साहू इंटर कालेज में रखवा दिया गया। बिल भुगतान के लिए कूड़ेदान की रकम भी निकाल ली गई है।लगवाए गए कूड़ेदान भी गायबवर्ष 2019 में लगवाए गए तीन कूड़ेदान में दो गायब भी हो चुके हैं। कूड़ेदान का स्टैंड ही बचा है। ऐसे आलम में लोग कूड़ेदान के पास बचे स्टैंड के नजदीक ही कूड़ा फेंक रहे हैं जिससे गंदगी का आलम व्याप्त है।अफसर बन रहे अंजानबिहामिदपुर गांव में कूड़ेदान के नाम पर किए गए घोटाले को लेकर अफसर अंजान बन रहे हैं। चाहे वह एडीओ पंचायत हो या फिर बीडीओ कड़ा। उनका कहना है कि इस मामले की जानकारी उन्हें नहीं है।घटिया दर्जे के लगवाए गए कूड़ेदानकड़ा के बिहामिदपुर ग्राम पंचायत में लगवाए गए कूड़ेदान घटिया दर्जे के थे। तभी तो छह माह के अंदर ही कूड़ेदान के डिब्बे गायब हो गए। गांव के लोगों ने बताया कि कूड़ेदान घटिया किस्म के थे। प्रधान और सचिव ने घटिया क्वालिटी के कूड़ेदान रखवाकर उच्च क्वालिटी की रकम निकाल ली है।बोले अफसरगांव के स्थान पर निजी कालेज में कूड़ेदान रखवाए गए हैं, इसकी जानकारी नहीं है। मामले की जांच कराई जाएगी। जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।गोपालजी ओझा, डीपीआरओ

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Dustbin placed in college instead of village