Dip in the Ganges with silence - मौन धारण कर लगाई गंगा में डुबकी DA Image
17 फरवरी, 2020|9:14|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मौन धारण कर लगाई गंगा में डुबकी

मौन धारण कर लगाई गंगा में डुबकी

1 / 2मौनी अमावस्या पर शुक्रवार को जिले के गंगा-यमुना घाटों पर सुबह से ही आस्था का मेला लगा...

मौन धारण कर लगाई गंगा में डुबकी

2 / 2मौनी अमावस्या पर शुक्रवार को जिले के गंगा-यमुना घाटों पर सुबह से ही आस्था का मेला लगा...

PreviousNext

मौनी अमावस्या पर शुक्रवार को जिले के गंगा-यमुना घाटों पर सुबह से ही आस्था का मेला लगा रहा। भोर से ही घाटों पर श्रद्धालुओं की भीड़ जुटी स्नान के लिए जुटी रही। हजारों की संख्या में लोगों ने आस्था की डुबकी लगाई। देवी धाम कड़ा में गंगा स्नान के बाद भक्तों का जत्था दर्शन के लिए उमड़ा। मां शीतला का विधिविधान से पूजा कर भक्तों ने आशीष मांगा। गंगा स्नान के साथ पूजा-अर्चना का सिलसिला सुबह से देर शाम तक चलता रहा। इस दौरान सुरक्षा के मद्देनजर गंगा घाटों पर पुलिस के साथ स्थानीय गोताखोर तैनात रहे। घाटों पर जय गंगा मइया, हर-हर गंगे के जयकारे लगते रहे।

मौनी अमावस्या पर शुक्रवार को रेला आता और मेला सजता रहा। कड़ा के कुबरी गंगा घाट पर सुबह से ही स्नानार्थियों का जनसैलाब उमड़ पड़ा। लोगों में मान्यता है कि सभी पर्वो में अमावस्या का एक अलग महत्व है। इस दिन मौन धारण कर जो भी भक्त गंगा स्नान, पूजन अर्चन के साथ दान करता है, उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। मौनी अमावस्या पर शीतलाधाम कड़ा के साथ पल्हाना, काकराबाद, संदीपनि, फतेहपुर घाट के साथ पभोषा यमुना घाट पर सुबह से ही आस्था का रेला लगा रहा। शीतला धाम कड़ा के कुबरी घाट पर गंगा स्नान करने के बाद श्रद्धालुओं ने मौन तोड़ा। इसके बाद देवी मंदिर पहुंच मां शीतला की विधि विधान से पूजा अर्चन कर मन्नतें मांगी। शीतला धाम में कौशाम्बी के अलावा, चित्रकूट, फतेहपुर, बांदा, जौनपुर, प्रतापगढ़ आदि जिलों से भी भारी संख्या में लोग पहुंचे। और गंगा में आस्था की डुबकी लगाते हुए पुण्य कमाया। सुरक्षा के मद्देनजर जिले के प्रमुख गंगा घाटों पर पुलिस के साथ स्थानीय गोताखोरों को तैनात किया गया था।

चप्पे-चप्पे पर रही पुलिस की नजर

मौनी आमावस्या पर शुक्रवार को देवी धाम कड़ा में सुरक्षा के मद्देनजर चप्पे-चप्पे पर पुलिस के जवान तैनात रहे। महिलाओं की सुरक्षा के लिए भीड़-भाड इलाके में महिला सिपाही भी मुस्तैद रही। वहीं सीओ सिराथू, कड़ाधाम कोतवाल सुरक्षा का जायजा लेते रहे।