DA Image
Thursday, December 2, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश कौशाम्बीदेवराज हत्याकांड : कहानी गढ़ रही एसओजी

देवराज हत्याकांड : कहानी गढ़ रही एसओजी

हिन्दुस्तान टीम,कौशाम्बीNewswrap
Tue, 19 Oct 2021 03:40 AM
देवराज हत्याकांड : कहानी गढ़ रही एसओजी

कोखराज इलाके के चर्चित देवराज हत्याकांड की जांच कर रही एसओजी क्राइम पेट्रोल सरीखी कहानी गढ़ रही है। जघन्य घटना के 24 घंटे बाद गोविंदपुर गोरियो गांव में फांसी लगाकर जान देने वाले पट्टीदार को ही देवराज का कातिल बताया जा रहा है। पुलिस का स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप इस प्रकरण का पटाक्षेप करने के मूड में है। बात अलग है कि अभी अफसरों ने इसकी इजाजत नहीं दी है।

कोखराज थाना क्षेत्र के बिसारा गांव का देवराज पाल ईंट भट्ठे पर मजदूरी करता था। बुधवार रात घर के बाहर सोते वक्त धारदार हथियार से गला रेतकर उसकी हत्या कर दी गई थी। मामले में मृतक की पत्नी पूनम की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। घटना का खुलासा करने के लिए एसपी राधेश्याम विश्वकर्मा ने एसओजी को भी लगाया है। एसओजी ऐसी कहानी गढ़ रही है जो किसी टीवी सीरियल से कम नहीं है। खास तौर पर चर्चित धारावाहिक क्राइम पेट्रोल में अक्सर ऐसी ही कहानियां दिखाई जाती हैं।

ये है एसओजी की कहानी

एसओजी प्रभारी सिद्धार्थ सिंह ने बताया कि बुधवार रात देवराज की हत्या की गई। गुरुवार सुबह घर के बाहर चाकू से गर्दन रेता हुआ उसका शव मिला था। इसके बाद शुक्रवार सुबह सैनी क्षेत्र के गोविंदपुर गोरियों गांव में उसके पट्टीदार राजकुमार उर्फ राजू की लाश नीम के पेड़ पर फंदे से लटकती मिली। एसओजी प्रभारी के मुताबिक बिसारा में घटना स्थल पर राजकुमार की चप्पल और टार्च मिला था। भागते वक्त वह गांव के दो लोगों से टकरा भी गया था। एसओजी प्रभारी का कहना है कि देवराज की हत्या का 99 फीसदी शक फंदे पर लटके मिले राजकुमार पर ही था। उसकी तलाश की जा रही थी। अब तक उसके शव की शिनाख्त नहीं हो पाई थी। सोमवार को शिनाख्त हुई। इसके बाद लगभग तय हो गया है कि राजकुमार ने ही देवराज की हत्या की। बाद में आत्मग्लानि हुई तो उसने खुदकुशी कर ली।

राजकुमार ने आखिर देवराज को क्यों मारा ?

परिवार के लोगों का कहना है कि राजकुमार की देवराज से कोई खास रंजिश नहीं थी। पट्टीदारों के बीच मामूली तौर पर जैसी अनबन होती रहती है, वैसा ही था। फिर अब सवाल उठता है कि आखिर बिना कारण के राजकुमार देवराज को क्यों मौत की नींद सुलाएगा। इस सवाल का जवाब पुलिस अफसरों के पास नहीं है। अफसर इतना भर कह रहे हैं कि राजकुमार मानसिक रूप से थोड़ा कमजोर था।

कहीं राजकुमार को फंदे पर तो नहीं लटकाया

देवराज और राजकुमार की मौत के तार कहीं न कहीं जुड़ रहे हैं। ग्रामीणों को शक है कि कहीं हत्यारोपितों ने राजकुमार को फंदे पर लटका तो नहीं दिया है। इसकी सफाई में पुलिस अफसर कह रहे हैं कि राजकुमार की पीएम रिपोर्ट में हैंगिंग की बात सामने आई है।

इनका कहना है :

राजकुमार पर 99 फीसदी शक था। वह घटना वाली रात से ही फरार चल रहा था। शिनाख्त नहीं होने के कारण अब तक उसकी तलाश की जा रही थी। क्योंकि पुलिस को उसकी मौत की जानकारी नहीं थी। सोमवार को शिनाख्त के बाद तस्वीर काफी हद तक साफ हो गई है। जांच आगे होगी या नहीं, इस बाबत आला अफसर ही कुछ बता सकते हैं।

सिद्धार्थ सिंह-एसओजी प्रभारी

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें