ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश कानपुरअब्बू मिले तो मिल गया जहान...थैंक यू हिन्दुस्तान

अब्बू मिले तो मिल गया जहान...थैंक यू हिन्दुस्तान

मानसिक रूप से बीमार अब्बू की तलाश में कहां-कहां नहीं भटका। कभी रेलवे स्टेशन तो कभी बस स्टैंड पर फोटो लेकर पूछता रहा। एक से दूसरे तो फिर न जाने कितने...

अब्बू मिले तो मिल गया जहान...थैंक यू हिन्दुस्तान
हिन्दुस्तान टीम,कानपुरWed, 24 Apr 2024 03:05 PM
ऐप पर पढ़ें

मानसिक रूप से बीमार अब्बू की तलाश में कहां-कहां नहीं भटका। कभी रेलवे स्टेशन तो कभी बस स्टैंड पर फोटो लेकर पूछता रहा। एक से दूसरे तो फिर न जाने कितने चौराहे का कोना-कोना देखा पर मायूसी ही हाथ लगी। दो माह बीत गए पर मेरे वालिद की कोई खबर नहीं मिली। दोबारा मिलने की उम्मीद दम तोड़ती जा रही थी, तभी अब्बू की तस्वीर और खबर हिन्दुस्तान अखबार में देखी तो समझो जहान मिल गया। बगैर कोई देरी किए सीधे हैलट पहुंच गया। इमरजेंसी में अब्बू को सामने देखकर ऐसा लगा कि मुझसे खुशनसीब और कोई नहीं है। मेरी अम्मी व भाई-बहनों के चेहरे पर दोबारा मुस्कान लाने के लिए... थैंक यू हिन्दुस्तान। आपकी वजह से हमारे घर का बुजुर्ग हमें दोबारा मिल सका। रेलबाजार के मो. नसीम यह कहते-कहते भावुक हो गए। दरअसल, शनिवार को हैलट पीजीआई के पास चिलचिलाती गर्मी में 80 वर्षीय बुजुर्ग लावारिस हालत में पड़े थे। हाथ-पैर में कुष्ठ के अलावा बोलने और बताने में अक्षम बुजुर्ग दर्द से बेहाल भी थे। इमरजेंसी में इन्हें बाद में भर्ती कर इलाज शुरू किया गया था। आपके अपने अखबार ‘हिन्दुस्तान ने बुजुर्ग की इस दयनीय दशा की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया। इसका असर यह हुआ कि पेशे से ड्राइवर मो नसीम और उनके भाई-बहनों को उनके अब्बू मो. मुश्तकीम दोबारा मिल गए। मुश्तकीम को परिजन मंगलवार सुबह घर ले गए।

पुलिस को गुमशुदगी की सूचना भी दी

नसीम ने बताया कि 29 फरवरी को रेलबाजार के मीरपुर कैंट स्थित घर से अब्बू लापता हो गए थे। मानसिक रूप से बीमार होने के कारण उनका इलाज भी चल रहा था। आसपास तलाशने के बावजूद नहीं मिलने पर रेलबाजार थाने में गुमशुदगी की सूचना भी दर्ज कराई थी।

शकीला ने मीठा खिलाकर किया शौहर का स्वागत

शौहर मुश्तकीम को महीनों बाद दोबारा देखा तो शकीला के उदास चेहरे पर चमक लौट आई। घर आते ही मीठा बनाकर खिलाया। बेटियां रूबी, मंनो और नाजो की भी खुशी देखते ही बन रही थी। नसीम के दो और भाई भी हैं। वह भी आज लंबे समय बाद खुश दिखे।

बेटे की शादी की खुशियां में लगे चार-चांद

नसीम ने बताया कि उनके बेटे की शादी इसी महीने हैं। अब्बू के दोबारा घर आने से अब घर का माहौल बदल गया। पूरा परिवार की खुशियों का ठिकाना नहीं है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।