DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपीएससी नतीजों में चमके कानपुर के होनहार

अाईएस में तेजस्वी ने हांसिल की 12वीं रैंक।

1 / 2अाईएएस में 12वीं रैंक हासिल करने वाली तेजस्वी की सफलता पर पिता डॉ. कुलदीप सिंह अौर मां डॉ. सरिता की खुशियां देखते ही बन रही थीं।

अाईएएस में सूरज पटेल को मिली 602 रैंक।

2 / 2अाईएएस में 602 रैंक हासिल करने वाले सूरज के किसान पिता मनोज पटेल की छाती गर्व से चौड़ी हो गई। पूरे परिवार ने एक साथ खुशी मनाई।

PreviousNext

बुधवार को भारतीय सिविल सेवा परीक्षा में शहर का गौरव बरकरार रहा। आईआईटी, कानपुर से बीटेक करने वाली तेजस्वी राना ने 12 वीं रैंक हासिल कर शहर की मेधा को ऐसी बुलंदियों पर पहुंचने के लिए प्रेरित किया। हंसपुरम नौबस्ता निवासी सूरज पटेल ने एक बार फिर इस परीक्षा में सफलता हासिल कर 602 रैंक हासिल की। 
तेजस्वी समेत सफल हुए शहर के मेधावियों में उत्कर्ष एकेडमी के छात्रों को सफलता मिली। जिन अन्य मेधावियों ने सफलता पाई, वे हैं-सिद्धार्थ कटारा (785), राजेश कुमार (842), दीपिका कुमारी (914), आदित्य पटेल (919), सुरजीत सिंह गौतम (925), मनोज कुमार (974) और राकेश तिवारी (1088)। सूरज ने एपेक्स में भी अध्ययन किया। उत्कर्ष एकेडमी के निदेशक प्रदीप दीक्षित ने बताया कि 
इन मेधावियों ने सही दिशा मिलने पर अपनी लगन और मेहनत से सफलता हासिल की। 
तेजस्वी का बचपन से था देश सेवा का सपना
भारतीय सिविल सेवा परीक्षा में 12वीं रैंक हासिल करने वाली तेजस्वी राना बचपन से ही देश सेवा करना चाहती थी। हरियाणा के कुरुक्षेत्र में रहने वाले डॉ. कुलदीप सिंह राना व डॉ. सरिता राना की बेटी तेजस्वी ने इंटर की पढ़ाई करने के बाद आईआईटी कानपुर से बीटेक किया। इसी दौरान उसने अपने बचपन के सपने को सच करने की ठान ली। किसी ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारी बनकर देश सेवा अच्छे से की जा सकती है। यह बात तेजस्वी ने गांठ बांध ली और बीटेक की पढ़ाई के साथ ही आईएएस अधिकारी बनने के लिए कोचिंग ज्वाइन कर ली। 2015 में बीटेक के साथ सिविल की परीक्षा भी दी और मेन क्वालीफाई कर लिया। मगर इंटरव्यू नहीं दिया। 2016 में तेजस्वी ने दोबारा सिविल की परीक्षा दी और 12वीं रैंक हासिल कर अपने सपने को सच साबित करने की पहली सीढ़ी पार कर ली। 
सूरज गरीबों की जिंदगी में लाना चाहते हैं उजाला
भारतीय सिविल परीक्षा में लगातार दूसरी बार कामयाबी हासिल करने वाले सूरज पटेल ने शहर का मान बढ़ाया है। पिता मनोज पटेल किसान हैं और मां संतोषी पटेल गृहणी है। घाटमपुर के कुआखेड़ा के मूलता निवासी मनोज का पूरा परिवार अब हंसपुरम में रहता है। सूरज की फरवरी 2015 में तृप्ति से शादी हुई। सूरज ने 2015 में भी सिविल परीक्षा दी थी और 819 रैंक हासिल की थी। वर्तमान में सूरज आईआरएस (कस्टम) की ट्रेनिंग कर रहा है। सूरज ने हिन्दुस्तान को बताया कि वह शुरू से ही गरीब जनता की मदद करना चाहता था। पुलिस अधिकारी गरीब जनता की अधिक मदद कर सकता है। पिछली बार आईपीएस न मिलने से इस बार दोबारा परीक्षा दी। दीनदयाल उपाध्याय स्कूल से इंटर की पढ़ाई करने के बाद इलाहाबाद से बीटेक किया। 

UPSC नतीजे घोषित: के आर नंदिनी टॉपर, अनमोल दूसरे स्थान पर रहे, यहां देखें पूरी लिस्ट

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: UPSC results show brightness in Kanpur