DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

UGC-NET : बदले पैटर्न ने छुड़ाया अभ्यर्थियों का पसीना

UGC-NET : बदले पैटर्न ने छुड़ाया अभ्यर्थियों का पसीना

यूजीसी-नेट के बदले प्रश्नों के पैटर्न ने अभ्यर्थियों को मायूस कर दिया। परंपरागत पेपरों की तरह तैयारी करके आए अभ्यर्थी ज्यादा परेशान हुए। पुस्तकों के लेखकों के नाम, यह कथन किसका है जैसे सवालों से भरे प्रश्नपत्रों के कारण जितने अच्छे पेपर की उम्मीद में आए थे वह पूरी नहीं हो पाई। सुबह की पाली के सभी के लिए अनिवार्य पेपर में करेंट अफेयर्स के मात्र दो प्रश्न ही पूछे गए।

नगर के 20 सेंटरों पर हुई यूजीसी-नेट में 12,000 अभ्यर्थियों को परीक्षा देनी थी। इनमें से 11,718 ने परीक्षा दी। केवल 2.35 फीसदी ने परीक्षा छोड़ी। नगर के बीच केवल एक ही सेंटर था। शेष 19 सेंटरों तक पहुंचने में अभ्यर्थियों को काफी परेशानी उठानी पड़ी। जिनके सेंटर प्रतिरक्षा विभाग में थे उन्हें कई किमी तक पैदल चलना पड़ा। इस बात पर अभ्यर्थियों ने नाराजगी जताई। लंबी दूरी चलने के कारण वे पेपर में अपना ध्यान अच्छी तरह केंद्रित नहीं कर सके।

बदल गया प्रश्नों का पैटर्न : अब तक यूजीसी-नेट देते रहे अभ्यर्थियों का कहना था कि पहले जो प्रश्न पूछे जाते थे उनमें वैराइटी होती थीं। पर इस बार जो सवाल पूछे गए हैं उनका ट्रेंड अलग था। कैंट सेंटर पर परीक्षा देने आए पंकज तिवारी ने बताया कि कोई भी अभ्यर्थी 100 किताबों के लेखकों के नाम नहीं याद कर सकता। बड़ी संख्या में किसी किताब को पूरी तरह पढ़ा भी नहीं जा सकता। पर लेखकों और कथन संबंधी प्रश्नों की भरमार थी। सोशियोलॉजी, अर्थशास्त्र, शिक्षाशास्त्र, उर्दू समेत इन विषयों में इसी तरह के सवाल पूछे गए।

पेपर तो कठिन था : सोनेलाल पटेल इंटर कॉलेज में परीक्षा देने आए अभ्यर्थियों ने बताया कि सुबह की पाली के दोनों पेपर भी आसान नहीं थे। पहले और दूसरे में 50-50 प्रश्न थे और सभी प्रश्न दो-दो अंकों के थे। करेंट अफेयर्स की तैयारी ज्यादा करके आए लेकिन केवल दो ही सवाल मिले। रीजनिंग और गणित से जुड़े प्रश्न अधिक थे। पेपर-03 में 75 सवाल थे और इसमें ज्यादातर विषयों के पेपर असामान्य थे। ओवरऑल पेपर सामान्य से कठिन था। यूजीसी-नेट में निगेटिव मार्किंग नहीं होगी।

प्रवेश के समय हुई तलाशी : सेंटरों पर प्रवेश के समय मेटल डिटेक्टर लगाए जाने के निर्देश थे लेकिन सेंटरों पर ऐसा नहीं दिखा। पुलिस और सेंटरों के शिक्षकों ने सघन तलाशी ली। केवल प्रवेशपत्र, फोटो पहचानपत्र और पेन छोड़ शेष कुछ भी नहीं ले जाने दिया। मोबाइल व अन्य सामग्री कहीं मैदानों में तो कहीं स्ट्रांग रूम बनाकर रखाई गई।

अंगूठा लगवाया गया : सेंटरों पर वीडियोग्राफी आदि तो नहीं हुई लेकिन फोटो पहचानपत्र आदि से मिलान किया गया और अंगूठा लगवाया गया।

सेंटरों पर गए उड़नदस्ते : यूजीसी-नेट के नगर प्रभारी सरदार बलविंदर सिंह ने बताया कि शहर में परीक्षा सामान्य रही। मात्र 2.35 फीसदी ने परीक्षा छोड़ी। पांच उड़नदस्ते बनाए गए थे। इन दस्तों ने सेंटर विजिट कीं। इनके अतिरिक्त ऑब्जर्वर ने भी सेंटर देखे। किसी भी सेंटर से कोई शिकायत नहीं आई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:UGC-Net: students tell paper tough