DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रसायनिक खादे खेतों की मृदा को कर रही विषैला

पंजाब में खेतों की जमीन विषैला होने के बाद देश भर में रसायनिक खादों को लेकर चर्चा शुरू हो गई है। कृषि वैज्ञानिकों का मानना है कि रसायनिक खादों से खेतों की मृदा की उर्वरक शक्ति कमजोर होने के साथ विषैली हो रही है। ऐसे में जो फसलें पैदा हो रही हैं वह स्वास्थ के लिए हानिकारक भी हैं। यह जानकारी किसानों को कृषि दिवस में दी गई। इसके साथ ही जैविक खेती के बारे में भी बताया गया। बुधवार को कल्याणपुर ब्लाक सभागार में कृषि दिवस मनाया गया। उप कृषि निदेशक धीरेन्द्र सिंह ने बताया कि जैविक खाद का उपयोग करें। रसायनिक खादों का उपयोग बन्द करें। रसायनिक खादों के उपयोग से मृदा जहरीली होती जा रही है। आने वाले समय उत्पादन में असर पड़ेगा साथ ही पैदा हो रही फसले भी जहरीली हो रही है। पंजाब जैसे उत्पादक प्रदेश में मृदा की जांच में इसका खुलासा हुआ है। केचुआ पालन, गोबर की कम्पेास्ट खाद, गौमूत्र से बनने वाली जैविक खाद, समेत अन्य तरीकों को किसानों को जानकारी दी गई।

समय समय पर कराएं मिट्टी की जांच

जिला कृषि अधिकारी मनीष सिंह ने बताया कि समय समय पर किसान अपने खेतों की मिट्टी की जांच कराए। धान की नर्सरी में व धान की फसल में लगने वाले रोगों की जानकारी दी गई। साथ ही उसके रोकथाम के उपाय बताए गये। मौके पर बीडीओ अनुरूद्ध सिंह, भूमि सरंक्षण अधिकारी राम नरेश पाल, धीरज सिंह आदि लोग मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Toxic remains of soil of chemical fertilizer fields