DA Image
23 सितम्बर, 2020|7:08|IST

अगली स्टोरी

कानपुर में डेंगू से बीटेक छात्रा समेत तीन की मौत, 100 नए पीड़ित

डेंगू से हालात और बिगड़ गए हैं। रूमा के एक इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ रही बीटेक छात्रा समेत तीन और लोगों की इससे मौत हो गई है। वहीं, जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज और उर्सला अस्पताल में दो सौ मरीजों की जांच गुरुवार को हुई है, जिनमें 100 में इस बीमारी की पुष्टि हुई है। इसके अलावा सभी सरकारी अस्पतालों के डेंगू वार्ड संक्रमित और संदिग्ध मरीजों से फुल हैं। 


डेंगू से इंद्रधनुष स्कूल के पास विमानपुरी की रहने वाली बीटेक छात्रा लवली (22), दामोदरनगर के हरदेवनगर में रहने वाले 12 वर्षीय रामजी शर्मा पुत्र आशू शर्मा और विमानपुरी सनिगवां रोड निवासी राजकुमारी कनौजिया की जान चली गई। इन सभी का प्राइवेट अस्पतालों में इलाज हो रहा था। प्राइवेट पैथोलॉजी की जांच में डेंगू की पुष्टि भी हुई थी। रामजी शर्मा घर में इकलौता चिराग था। उसके पिता के मुताबिक एक प्राइवेट क्लीनिक में दिखाया। बेटे को दो दिन बुखार आया था। इस पर डॉक्टर ने प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराने की सलाह दी। अस्पताल में भर्ती कराने के बाद जांच में प्लेटलेट की संख्या 12 हजार से नीचे निकली। डॉक्टरों ने बताया कि हैमरेजिक डेंगू से बच्चे की सांस उखड़ गई। 


आईसीयू में भी 50 फीसदी रोगी
हैलट में 40 बेड का डेंगू वार्ड फुल है। कुछ मरीज दूसरे वार्डों में भर्ती हैं। उर्सला में भी डेंगू वार्ड फुल है। शहरी इलाकों में चकेरी, श्यामनगर और पनकी से सबसे अधिक मरीज भर्ती हो रहे हैं। मेडिकल कॉलेज की मेडिसिन विभागाध्यक्ष प्रो. रिचा गिरि का कहना है कि डेंगू मरीजों की संख्या अधिक है। आईसीयू में 50 प्रतिशत बेड डेंगू रोगियों से फुल हैं। सभी डॉक्टर मरीजों की गम्भीरता के हिसाब से इलाज में सतर्कता बरत रहे हैं। हालांकि, रोजाना ठीक होने वाले 30-40 मरीजों की छुट्टी भी दी जा रही है।    


युवाओं और बच्चों में अधिक संक्रमण
हैलट के डॉक्टर इस बात को लेकर हैरान हैं कि अब तक भर्ती होने वाले डेंगू रोगियों में सबसे अधिक युवा, पुरुष और बच्चे हैं। मेडिसिन विभाग के एक जूनियर डॉक्टर का कहना है कि 70 फीसदी मरीज युवा हैं। वैसे डॉक्टर का यह भी कहना है कि डेंगू किसी को भी हो सकता है।
 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Three dead including BTech student 100 new victims of dengue in Kanpur