DA Image
4 दिसंबर, 2020|8:38|IST

अगली स्टोरी

नहीं सुधरे रैन बसेरों के हालात

नहीं सुधरे रैन बसेरों के हालात

कानपुर देहात। हिन्दुस्तान संवाद

सर्दी की शुरूआत होने के बाद भी कोरोना संक्रमण से निपटने की कवायद में बेसहारा व मनोरोगियों को ठंड से बचाने के इंतजाम अभी तक चाक चौबंद नहीं हो सके हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद भी रैन बसेरे अभी तक कागजों में ही चाक चौबंद है। हकीकत यह है कि अधिकांश जगह इनके ताले तक नहीं खुले हैं। जबकि नगरीय व ग्रामीण क्षेत्र में अलावों का अता-पता तक नहीं है।

जिले के निर्बल व आश्रयहीन लोगों को ठंड से बचाने के लिए शासन से 33 लाख रुपए की धनराशि अवमुक्त की गई है। इसमें 30 लाख रुपए से कंबल खरीदने के साथ ही 3 लाख रुपए से अलावों की लकड़ी खरीदने का निर्देश दिया गया है। बजट आवंटित होने के बाद भी जिले में असहाय, निराश्रित व कमजोर वर्ग के लोगों को सर्दी से बचाने के उपाय गति नहीं पकड़ पा रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The situation of rain shelters has not improved