The funeral took place in the city - आक्रोशित कर्मचारियों ने शहर में निकाली शवयात्रा DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आक्रोशित कर्मचारियों ने शहर में निकाली शवयात्रा

आक्रोशित कर्मचारियों ने शहर में निकाली शवयात्रा

1 / 2वेतन न मिलने से नाराज जल संस्थान कर्मचारियों ने गुरुवार को शहर में महाप्रबंधक के पुतले की शव यात्रा निकाल विरोध प्रदर्शन किया। शव यात्रा शहर के मुख्य मार्गों से गुजरते हुए अम्बेडकर चौराहे पर समाप्त...

आक्रोशित कर्मचारियों ने शहर में निकाली शवयात्रा

2 / 2वेतन न मिलने से नाराज जल संस्थान कर्मचारियों ने गुरुवार को शहर में महाप्रबंधक के पुतले की शव यात्रा निकाल विरोध प्रदर्शन किया। शव यात्रा शहर के मुख्य मार्गों से गुजरते हुए अम्बेडकर चौराहे पर समाप्त...

PreviousNext

वेतन न मिलने से नाराज जल संस्थान कर्मचारियों ने गुरुवार को शहर में महाप्रबंधक के पुतले की शव यात्रा निकाल विरोध प्रदर्शन किया। शव यात्रा शहर के मुख्य मार्गों से गुजरते हुए अम्बेडकर चौराहे पर समाप्त हुई। इसके बाद महाप्रबंधक का पुतला फूंक कर नारेबाजी कर आक्रोश जताया।

जल संस्थान कर्मचारी यूनियन के बैनर तले जनपद के समस्त जल संस्थान कर्मचारी चार दिसम्बर से कार्य बहिष्कार कर लगातार धरना प्रदर्शन कर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। धरना प्रदर्शन के 20 वें दिन गुरुवार को आक्रोशित कर्मचारियों ने जल संस्थान कार्यालय से महाप्रबंधक झांसी के पुतले की शवयात्रा निकाली। शव यात्रा कालपी स्टैंड, शहीद भगत सिंह चौराहा होते हुए अम्बेडकर चौराहे पर समाप्त हुई। यहां पर महाप्रबंधक का पुतला फूंकते हुए कर्मचारियों ने नारेबाजी करते हुए जमकर भड़ास निकाली। सभा को सम्बोधित करते हुए यूनियन के अध्यक्ष रणवीर सिंह सिसौदिया ने कहा कि विभाग के पास बजट नहीं होने से पिछले पांच माह से कर्मचारियों को वेतन मिला है। वेतन न मिलने से हमारे परिवार भुखमरी की कगार पर हैं। इसके अलावा वेतन, जीपीएफ, सेवानिवृत कर्मचारियों की पेंशन, उपाधान एवं अस्थाई पम्प चालकों श्रमिकों के बकाया भुगतान भी नहीं किए जा रहे हैं। यूनियन के महामंत्री कैलाश दीक्षित ने कहा कि जब तक हमारी वेतन सहित अन्य मांगें पूरी नहीं की जातीं तब तक जल संस्थान कर्मचारी यूनियन के तत्वावधान में जल संस्थान के सभी कर्मचारी कार्य बहिष्कार करते हुए धरना जारी रखेंगे। इस मौके पर पूर्व महामंत्री बालकदास कुशवाहा, विश्वंभर दयाल गुप्ता, आशुतोष व्यास, अनिल गुप्ता, चमन आरा, मो. खालिद, रणधीर सिंह परिहार, पप्पू सिंह राजकुमार गौर, कृष्णा देवी, गायत्री देवी, आदि मौजूद रहे।

शवयात्रा को देखने के लिए राहगीरों में रहा कौतूहल

जल संस्थाकर्मियों ने महाप्रबंधक के पुतले की शव यात्रा पूरे विधि विधान से निकाली। चार कंधों पर पुतले की अर्थी लिए चार लोग आगे चल रहे थे जबकि एक कर्मचारी हांडी में धुआं करता हुए बगल में चल रहा था। बाजार से जब शवयात्रा निकली तो राहगीर वाहनों को रोक यात्रा को देखने लगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The funeral took place in the city