DA Image
23 जनवरी, 2020|8:54|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कानपुर में बारिश से सीसामऊ नाला उफनाया, गंगा में गिरा सीवेज

खबर के साथ लगी तस्वीर पर जरा गौर फरमाइए। 14 दिसंबर को इसी सीसामऊ नाले के सेल्फी प्वाइंट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आए थे। 12 दिसंबर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी यहीं सेल्फी ली थी। तब अफसरों ने दिखाने के लिए सीसामऊ नाले को बंद दिखाया था। गुरुवार को बारिश हुई तो यही नाला फिर उफनाया और सेल्फी प्वाइंट से गंगा में लगातार सीवेज गिरता रहा।


आपके अपने अखबार हिन्दुस्तान की टीम गुरुवार को सबसे पहले वीआईपी रोड स्थित रिवर साइड पावर हाउस पंपिंग स्टेशन के डायवर्जन प्वाइंट तक गई। यहां नाले का फाटक गंगा की तरफ खुला हुआ और भारी मात्रा में गंदा पानी जा रहा था। नाले की तरफ गए तो 300 मीटर दूर से ही नाला गिरने की आवाज सुनाई देने लगी। ऊपर से नाले में पांच फीट तक गंदा पानी आगे बढ़ता हुआ दिख रहा था। सेल्फी प्वाइंट पर नाले के मुहाने पर पहुंचे तो वही स्थिति नजर आई जो दो वर्ष पहले हुआ करती थी। बल्कि उससे भी कहीं ज्यादा काला पानी गंगा में गिरते दिख रहा था।


पीएम के आने के पहले भी गिरा था सीवेज : जल निगम के अफसरों का झूठ पीएम के आगमन से ठीक एक दिन पहले भी खुला था। तब बरसात भी नहीं हुई थी मगर सीवेज गंगा में गिरा था। आनन-फानन में बोरियां लगाकर इसे बंद किया गया और बाल्टियों में भरकर सीवेज फेंका गया। तब इस काम में अफसर भी जुटे हुए थे। पीएम के जाने के बाद भी नाले के मुहाने से सीवेज गिरा था मगर तब अफसरों ने यह दावा किया तो सीवेज नहीं यह पानी है। इससे पहले भी कई बार नाले से गंगा में सीवेज गिरता रहा है। बैराज से जाजमऊ के बीच कई और नाले गंगा में सीधे गिर रहे हैं। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Sisamau sewer is buried in rains in Kanpur sewage falls in Ganga