DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  कानपुर  ›  दूसरी लहर: डॉक्टर मिले नहीं, डायबिटीज रोगियों के फेल होने लगे पैंक्रियाज
कानपुर

दूसरी लहर: डॉक्टर मिले नहीं, डायबिटीज रोगियों के फेल होने लगे पैंक्रियाज

हिन्दुस्तान टीम,कानपुरPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 06:01 PM
दूसरी लहर: डॉक्टर मिले नहीं, डायबिटीज रोगियों के फेल होने लगे पैंक्रियाज

कानपुर।कोरोना की दूसरी लहर के बाद डायबिटीज रोगियों पर बड़ी मुसीबत आ पड़ी है। डायबिटीज अनियंत्रित हो रही है। पोस्ट कोविड मरीज हों या नान कोविड जिन्हें कोरोना नहीं हुआ है, दोनों तरह के मरीजों में 75 फीसदी की डायबिटीज बिगड़ी मिल रही है।

डायबिटीज रोग विशेषज्ञों के मुताबिक पैंक्रियाज की बीटा सेल असंतुलित हो गई है। लोगों की दवाओं की डोज बढ़ानी पड़ रही है। मरीज अनियंत्रित डायबिटीज से हार्ट किडनी और दूसरी बीमारियों से पीड़ित हो रहे। और गम्भीर स्थिति बन रही है।

कानपुर डायबिटीज एसोसिएशन के संयोजन में हुए वेबिनार में विशेषज्ञों के चर्चा दौरान यह बातें निकलकर सामने आई हैं। विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि जो मरीज सामान्य दवाओं पर थे वह इंसुलिन सपोर्ट पर आ गए। जो मरीज पहले से असंतुलित डायबिटीज से पीड़ित थे उनकी और बिगड़ गई। कोरोना संक्रमण से उबरे मरीजों की डायबिटीज और खराब स्टेज में मिल रही है। एसोसिएशन के चेयरमैन डॉ. बृज मोहन के मुताबिक कोरोना काल में लोगों को तमाम तरह की दिक्कतें झेलनी पड़ी हैं। मरीजों का इलाज प्रभावित हुआ है। डायबिटीज अनियंत्रित हुई तो कुछ सामान्य मरीज भी इंसुलिन की हैवी डोज पर आ गए। बीटा सेल की क्रियाशीलता पर असर आ गया है। इससे बचने की जरूरत है।

संबंधित खबरें