ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश कानपुरबिकरू कांड में चार साल बाद चर्चित मनु पांडेय की कुर्की का आदेश

बिकरू कांड में चार साल बाद चर्चित मनु पांडेय की कुर्की का आदेश

दो जुलाई 2020 का बिकरू कांड एक बार फिर चर्चा में है। इस कांड की प्रत्यक्षदर्शी मनु पांडेय उर्फ वर्षा को आखिरकार पुलिस ने आरोपित बना ही दिया। उसके खिलाफ कोर्ट ने कुर्की का आदेश भी प्राप्त कर लिया है।

बिकरू कांड में चार साल बाद चर्चित मनु पांडेय की कुर्की का आदेश
Rishiबिल्हौर(कानपुर), संवाददाता। Sun, 19 May 2024 02:26 AM
ऐप पर पढ़ें

बिकरू कांड एक बार फिर चर्चा में है। इस कांड की प्रत्यक्षदर्शी मनु पांडेय उर्फ वर्षा को आखिरकार पुलिस ने आरोपित बना ही दिया। पुलिस ने कोर्ट से पूर्व में गैर जमानती वारंट हासिल किया। फिर धारा 82 (भगोड़ा होने की घोषणा) की कार्रवाई की। अब कुर्की के आदेश भी कोर्ट से प्राप्त कर लिए हैं। 
विकास दुबे के मामा प्रेम पांडेय की पुत्रवधू और शशिकांत की पत्नी मनु पांडेय को पुलिस ने बिकरू कांड में न तो आरोपित बनाया और न ही उसे गवाह बनाया। जबकि घटना को लेकर मनु पांडेय की कॉल रिकॉर्डिंग के ऑडियो वायरल हुए थे। तीन साल तक पुलिस मनु को लेकर मौन रही मगर अंदर ही अंदर विवेचना जारी रही। इस दौरान पुलिस ने मनु को एक मामले में सरकारी गवाह भी बना दिया था। इसके बाद एकाएक मनु के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई तेज कर दी। उसके खिलाफ 17 जुलाई 2023 को  माती गैंगस्टर कोर्ट से पुलिस ने गैर जमानती वारंट हासिल किया। 14 सितम्बर 2023 को पुलिस ने कोर्ट से धारा 82 (भगोड़ा घोषित) करने के आदेश प्राप्त किए। 14 मई 2024 को मनु के खिलाफ कोर्ट से धारा 83 (कुर्की) के आदेश भी प्राप्त  कर लिए। अब पुलिस मनु की सम्पत्ति कुर्क करने की कार्रवाई करेगी। 
एसीपी बिल्हौर अजय कुमार त्रिवेदी का कहना है कि बिकरू कांड में मनु पांडेय आरोपित है। उसके खिलाफ कुर्की के आदेश कोर्ट से कराए गए थे जो कि शनिवार को मिले हैं। इस मामले में फोर्स को अब मनु पांडेय के घर को कुर्क करेगी। उससे जुड़ी अन्य सम्पत्तियों के बारे में भी जानकारी की जा  रही है। 
विकास दुबे समेत छह आरोपित मारे जा चुके, 32 गए थे जेल 
2/3 जुलाई की देर रात चौबेपुर थानाक्षेत्र के बिकरू गांव में कुख्यात विकास दुबे ने अपने गुर्गों  के साथ मिलकर पुलिस टीम पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी थी। इसमें सीओ बिल्हौर समेत आठ पुलिस कर्मियों की मौत हो गई थी। विकास दुबे समेत छह आरोपितों को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया था। वहीं 32 आरोपितों को जेल भेजा गया था। उस दौरान विकास दुबे का मामा प्रेम पांडेय भी एनकाउंटर में मारा गया था। उसका बेटा शशिकांत अभी जेल में है।