ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश कानपुरकानपुर में दिवाली के जश्न में कोई कसर नहीं रही बाकी, जमकर खरीदारी

कानपुर में दिवाली के जश्न में कोई कसर नहीं रही बाकी, जमकर खरीदारी

कानपुर। वरिष्ठ संवाददाता दीपावली का जश्न यादगार व शानदार मनाया गया। दीपावली के दिन...

कानपुर में दिवाली के जश्न में कोई कसर नहीं रही बाकी, जमकर खरीदारी
हिन्दुस्तान टीम,कानपुरMon, 13 Nov 2023 10:00 PM
ऐप पर पढ़ें

कानपुर। वरिष्ठ संवाददाता

दीपावली का जश्न यादगार व शानदार मनाया गया। दीपावली के दिन रविवार की सुबह से ही बाजार गुलजार रहे। पटाखा से लेकर गणेश लक्ष्मी की मूर्तियों की खरीदारी जमकर हुई। लइया, खील, गट्टा समेत तमाम खाद्य सामग्रियों की दुकानों में दिनभर भीड़ रही। खास तौर पर मिठाई की दुकानों में पसंद की मिठाइयां खरीदने की जल्दबाजी भी रही।

धनतेरस व छोटी दीवाली में सराफा, बाइक, कार, सजावट का सामान, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण समेत कई सामग्रियों के बाजारों में खचाखच भीड़ रही। रविवार को बड़ी दीपावली के दिन भी यह सिलसिला बरकरार रहा।

पटाखा बाजार रहा गुलजार : मोतीझील व फूलबाग में पटाखा बाजार ग्राहकों से गुलजार रहे। दुकानदारों ने भी इसका पूरा फायदा उठाया और मनमाने दाम में पटाखे बेचे। ग्राहकों ने भी महंगाई पर ध्यान न देते हुए जमकर खरीदारी भी की।

200 की गणेश मूर्ति 500 में बिकी: रविवार को पूजन का समय जैसे-जैसे नजदीक आया वैसे गणेश मूर्ति की कीमतें भी आसमान छूने लगी। बिरहाना रोड, घंटाघर, शिवाला, नवीन मार्केट, किदवई नगर, आर्य नगर, कल्याणपुर, लाल बंगला, रामदेवी के दुकानदारों ने मूर्तियों की कीमतें दोगुनी दाम से अधिक में बेची। धनतेरस की दोपहर 200 में बिकने वाली मूर्ति 500 में बेची गई। दुकानदारों का कहना था कि अभी कीमतें नहीं बढ़ाएंगे तो फिर कोई बाद में नहीं पूछता।

मिठाइयों की दुकानों में रही भीड़

रविवार को एक से एक मिठाइयों की डिमांड रही। काजू, पिस्ता, अंजीर, दूध व छेने की बनी मिठाइयों की डिमांड अधिक रही। दुकानदारों ने खास तौर पर शुगर फ्री मिठाइयां की लजीज वैरायटी भी तैयार कर रखी थी। रविवार को ही तीन करोड़ की मिठाइयां शहर भर में बिक गई।

फूलों पर भी महंगाई का असर: दीपावली पर फूलों की भी डिमांड अधिक रहती है। इसीलिए कलेक्टर गंज से शक्कर पट्टी जाने वाले रास्ते पर दोनों और सड़क पर फूल दुकानदारों ने दुकानें सजा रखी थी। गेंदा, गुलाब, चमेली, गुड़हल समेत कई फूलों की बिक्री रही। महंगाई का भी असर फूलों पर भी दिखा।

10 रुपये के नए नोट की गड्डी 1700 में बिकी: 10 रुपये के नोट की गड्डी की डिमांड खूब रही। पूजन के दौरान नए नोटों के इस्तेमाल की परंपरा रही है। इस वजह से लोग एक दूसरे से नए नोटों की गड्डी का इंतजाम करते रहे। वही नयागंज में 10 के नोट की गड्डी रविवार दोपहर को 1700 रुपये में बिकी।

आसपास के इलाकों से भी आए खरीदारी करने: दीपावली की खरीदारी करने के लिए आसपास के लोग भी शहर आए। उन्नाव, फतेहपुर, कन्नौज व तमाम ग्रामीण इलाकों के लोगों ने यहां आकर खरीदारी की।

मुहूर्त ट्रेडिंग में 300 करोड़ का कारोबार: शेयर कारोबार से जुड़े लोगों ने एक घंटे के मुहूर्त ट्रेडिंग में भी किस्मत आजमाई। शाम 6:15 से 7:15 बजे तक शहर से करीब 300 करोड़ के शेयर की खरीद बिक्री की गई। एक्सपर्ट राजीव सिंह के अनुसार इस बार शहर के लोगों में गजब का उत्साह रहा। पिछले साल की तुलना में इस बार करीब 100 करोड़ का कारोबार शहर से हुआ है।

गिफ्ट आइटम की भी जमकर बिक्री: दीपावली पर एक दूसरे को गिफ्ट देने की परंपरा रही है। चॉकलेट केक, टॉफी, ड्राई फ्रूट समेत कई आइटम गिफ्ट के तौर पर दिए गए। कंपनियों ने भी दिवाली ऑफर के जरिए खूब मुनाफा कमाया।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।