DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  कानपुर  ›  पहले खुद ठगी का शिकार हुआ मोहित, फिर दूसरों को ठगा
कानपुर

पहले खुद ठगी का शिकार हुआ मोहित, फिर दूसरों को ठगा

हिन्दुस्तान टीम,कानपुरPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 06:02 AM
पहले खुद ठगी का शिकार हुआ मोहित, फिर दूसरों को ठगा

रेलवे में नौकरी के नाम पर पहले खुद ठगा गया आरोपित मोहित बाद में गैंग के साथ मिलकर लोगों को नौकरी दिलाने लगा। इस काम के लिए उसे भी ठगी रकम का कुछ हिस्सा मिलता था। देहरादून निवासी मोहित से जीआरपी की पूछताछ में यह बात सामने आई है। जीआरपी ने उसे जेल भेज दिया।

जीआरपी ने गैंग के सदस्य मोहित को मंगलवार गिरफ्तार किया था। उसने बताया कि देहरादून में दिनेश से मुलाकात हुई थी। उसने रेलवे में नौकरी दिलाने की बात कही तो वह तैयार हो गया। दिनेश ने रुद्र प्रताप ठाकुर से मिलाया, जिसने नौकरी दिलाने का वादा किया। रुद्र ने दिल्ली स्टेशन पर एक व्यक्ति से मिलाया, जिसने स्वयं को डीआररएम का पीआरओ बताया। कुछ देर बाद उसने डीआरएम के हस्ताक्षर युक्त एक आइडी भी दे दी, जिसके बाद विश्वास हो गया। उसी दौरान 20-20 हजार रुपये रुद्र के खाते में ट्रांसफर किए, जबकि बाद में 1.10 लाख रुपये चेक के जरिये दिए थे। खुद नौकरी करने के साथ अपने रिश्तेदारों और दोस्तों को भी नौकरी दिलाने लगा। अब तक करीब नौ लोगों को नौकरी के नाम पर रुद्र से मिला चुका है। जीआरपी ने मोहित द्वारा किए गए कैश ट्रांसफर की डिटेल निकाली है।

संबंधित खबरें