DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › कानपुर › मनीष हत्याकांड : जन्मदिन से पहले गिरफ्तारी हो तो पति की आत्मा को मिलेगी शांति
कानपुर

मनीष हत्याकांड : जन्मदिन से पहले गिरफ्तारी हो तो पति की आत्मा को मिलेगी शांति

हिन्दुस्तान टीम,कानपुरPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 09:15 PM
मनीष हत्याकांड :  जन्मदिन से पहले गिरफ्तारी हो तो पति की आत्मा को मिलेगी शांति

कानपुर दक्षिण। संवाददाता

पति के जन्मदिन से पहले अगर सभी हत्यारोपित पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी होती है तो उनकी आत्मा को शांति मिलेगी। यह बात मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी ने सोमवार को 13वीं के मौके पर कही। मीनाक्षी ने ट्वीट करते हुए कहा कि पति के हत्यारोपित पुलिसकर्मियों को फांसी की सजा होनी चाहिए साथ ही केस से जुड़ी सभी जांचें और ट्रायल शहर में ही हो। इस मौके पर घर पहुंचे रिश्तेदार मीनाक्षी और उनके परिजनों को सांत्वना देते रहे।

बर्रा निवासी प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता की नृशंस हत्या के मामले में हत्यारोपित इंस्पेक्टर जेएन सिंह और दरोगा अक्षय मिश्रा की गिरफ्तारी की खबर को मीनाक्षी ने सुकून देने वाला बताया। मीनाक्षी ने कहा कि 16 अक्टूबर को पति मनीष का जन्मदिन है यदि इससे पहले ही सभी हत्यारोपित पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी हो जाती है तो उनकी आत्मा को शांति मिलेगी। गोरखपुर पुलिस की कार्रवाई पर बिल्कुल भरोसा नहीं है। उन्होंने ट्वीट करते हुए यह भी लिखा कि केस की सभी जांचें और ट्रायल शहर में ही हो क्योंकि वह पांच साल के बेटे को लेकर इतनी दूर नहीं जा सकती हैं क्योंकि हत्यारोपित पुलिसकर्मियों से उसे जान का खतरा है। जब पुलिसकर्मी उसके पति की हत्या कर सकते है तो वह उसके साथ कुछ भी कर सकते हैं। वहीं, भाई रंजीत ने बताया कि मंगलवार को मीनाक्षी केडीए पहुंचकर नौकरी ज्वाइन करेंगी।

भीड़भाड़ देख परेशान रहा अभिराज

तेरहवीं संस्कार पर रिश्तेदारों की भीड़भाड़ देखकर बेटा अभिराज पूरे दिन परेशान सा रहा। पति की फोटो के आगे बैठी गमगीन मीनाक्षी को देखकर रिश्तेदार उसे सांत्वना देते रहे। वहीं अभिराज भी मां के सीने से लिपटकर पूछता रहा कि वह क्यों रो रही हैं।

सीबीआई जांच में देरी पर जताई नाराजगी

मीनाक्षी ने सीबीआई जांच में देरी पर नाराजगी जताते हुए कहा कि हत्या के कारण जानने के लिए सीबीआई जांच बेहद जरूरी है। हालांकि एसआईटी ठीक से जांच कर रही है लेकिन हत्यारोपित भी पुलिसकर्मी ही हैं जो जांच को प्रभावित कर सकते हैं। पूरे प्रकरण में अब तक यह साफ नहीं हो सका कि घटना की रात क्या हुआ था, किसके बुलाने पर पुलिस होटल पहुंची और मनीष के पास जो रकम थी उसका क्या हुआ। इस सबका खुलासा सीबीआई जांच से ही होगा।

संबंधित खबरें