ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश कानपुरयदुपति सिंहानिया के नाम पर होगा आईआईटी कानपुर का सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल

यदुपति सिंहानिया के नाम पर होगा आईआईटी कानपुर का सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल

आईआईटी कानपुर में बन रहा सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल प्रख्यात उद्यमी व संस्थान के पूर्व...

यदुपति सिंहानिया के नाम पर होगा आईआईटी कानपुर का सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल
हिन्दुस्तान टीम,कानपुरWed, 27 Oct 2021 01:45 PM
ऐप पर पढ़ें

आईआईटी कानपुर में बन रहा सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल प्रख्यात उद्यमी व संस्थान के पूर्व छात्र युदपति सिंहानिया के नाम पर होगा। इसे लेकर संस्थान और जेके सीमेंट के बीच एमओयू भी हुआ। सात लाख वर्ग फुट में बनने वाले हॉस्पिटल में 400 बेड होंगे। दूसरे चरण में इसे 1000 बेड किया जाएगा। अस्पताल संस्थान में बन रहे स्कूल ऑफ मेडिकल रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी के तहत तैयार होगा। जेके सीमेंट इस एमओयू के तहत संस्थान को हॉस्पिटल निर्माण के लिए 60 करोड़ रुपये देगा। एसएमआरटी के तहत संस्थान में सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल बनना है, जिसके लिए जेके सीमेंट ने हाथ बढ़ाया है। मंगलवार को संस्थान के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर और जेके सीमेंट के प्रबंध निदेशक डॉ. राघवपत सिंहानिया, निदेशक निधिपित सिंहानिया, माधव कृष्ण सिंहानिया के बीच समझौता हुआ। यदुपति ने आईआईटी कानपुर से 1975 में सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक किया था। वर्तमान में जेके सीमेंट देश की अग्रणी कंपनी है। प्रो. करंदीकर ने कहा कि प्रस्तावित अस्पताल चिकित्सा अनुसंधान और प्रौद्योगिकी में आईआईटी कानपुर के नवाचारों को चलाने में अहम भूमिका निभाएगा। अजय सरावगी, प्रो. एस गणेश, प्रो. जयंत सिंह, कपिल कौल आदि मौजूद रहे।

पहला चरण तीन से पांच साल में पूरा

प्रो. करंदीकर के मुताबिक एसएमआरटी का अस्पताल का हिस्सा मेडिकल रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी फाउंडेशन नामक सेक्शन 8 कंपनी के तहत संचालित होगा। पहले चरण में 7 लाख वर्ग फुट में 400 बेड का सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल बनेगा। इसमें एकेडमिक ब्लॉक, आवास, छात्रावास, सर्विस ब्लॉक की भी स्थापना की जाएगी। पहला चरण तीन से पांच साल में पूरा करना है। इसके बाद अस्पताल की क्षमता 1000 बेड तक बढ़ाने के साथ क्लीनिकल विभाग, केंद्र, अनुसंधान क्षेत्रों में विस्तार, पैरामेडिकल विषय, वैकल्पिक चिकित्सा, अस्पताल प्रबंधन, खेल चिकित्सा जैसे कार्यक्रम शामिल करेंगे।