DA Image
1 अप्रैल, 2020|7:22|IST

अगली स्टोरी

कोरोना का भय : बार्डर में फंसे फलों के ट्रक, दो दिन तक का स्टॉक

default image

प्रदेश के बार्डर में फंसे ट्रक सेब, संतरा, अंगूर और अन्य फलों का आना मुश्किल हो रहा है। थोक आढ़तियों का कहना है कि एक-दो दिन में फंसे ट्रक न दौड़े तो किल्लत बढ़ जाएगी। आलू का भी दो दिन का ही स्टॉक है। कोल्डस्टोरेज से आलू मुश्किल से आ रहा है।

चकरपुर थोक मंडी के फूड मर्चेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष उमेश सिंह तोमर का कहना है कि कश्मीर से सेब लेकर आए ट्रक खाली ही लौट रहे हैं। इन ट्रकों को दिल्ली बार्डर पर रोक दिया गया है। ट्रक वापस कश्मीर न पहुंचने से उधर से लदे ट्रक नहीं चल रहे। इससे संकट खड़ा हो रहा है। मध्यप्रदेश से केला, महाराष्ट्र से अंगूर, राजस्थान से अनार आता है। वहां के ट्रक भी नहीं आ पा रहे। वैसे लोड फल व सब्जियों के ट्रक आने का आदेश है। लदे ट्रकों को तो फोन करने पर आने दिया जा रहा है। खाली ट्रक वापस जाते समय रोके जा रहे हैं। इससे उधर से ट्रांसपोर्टर ट्रक भेजने की हिम्मत नहीं कर रहे। गुरुवार को बाजार में आधा दर्जन भी ट्रक नहीं आए।

फल आढ़ती उमेश सिंह का कहना है कि उत्तर प्रदेश की सीमा के अंदर कोई दिक्कत नहीं आ रही है। दिक्कत होने पर व्यापारी सुन भी रहे हैं। फोन करने पर ट्रक छोड़े जा रहे हैं। फल कच्ची सामग्री है। ट्रक फंस जाने से खराब होने का भी खतरा होता है।

फल व्यापारी नसीब बाबू का कहना है कि ट्रक फंसने से संकट बढ़ जाएगा। ट्रक चेकिंग के नाम पर रोके भी गए तो माल खराब होगा। इससे दाम बढ़ेंगे। वैसे थोक व्यापारी दाम नहीं बढ़ा रहे हैं। एसोसिएशन ने भी सभी व्यापारियों से कह रखा है कि दाम न बढ़ाएं। थोक मंडी से सुबह 6 से 11 बजे तक माल लोडर से स्थानीय मंडियों को जा रहा है।

आलू अभी बाजार में हैं। आढ़तियों का कहना है कि दो या तीन दिन का स्टॉक है। कोल्डस्टोरेज से माल आता है। आम दिनों में 100 ट्रक माल आता था। अब 10 ट्रक माल ही आ रहा है। ट्रक की आवाजाही प्रभावित हुई तो यह माल आना भी बंद हो जाएगा। आलू आढ़ती राज किशोर का कहना है कि आलू को लेकर प्रशासन ने कोल्डस्टोरेज को आदेश दिए हैं। इससे अभी माल आ रहा है। लदा ट्रक नहीं रोका जा रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Fear of Corona Fruit trucks stranded in border stock for two days