DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › कानपुर › नई आबादी में बल्लियों के सहारे दौड़ रहा बिजली का करंट
कानपुर

नई आबादी में बल्लियों के सहारे दौड़ रहा बिजली का करंट

हिन्दुस्तान टीम,कानपुरPublished By: Newswrap
Mon, 25 Jan 2021 11:52 PM
नई आबादी में बल्लियों के सहारे दौड़ रहा बिजली का करंट

कानपुर देहात। हिन्दुस्तान संवाद

औद्योगिक क्षेत्र रनियां में तेजी से विकसित हो रही नई बस्तियों में बांस बल्लियों के सहारे बिजली के तार बांधकर घरों तक पहुंचाए गए हैं। ऐसे में तार काफी नीचे तक लटक रहे हैं, और कई जगह तो बिजली के तार जमीन से कुछ ही ऊपर हैं। इससे कभी भी कोई बड़ी दुर्घटना घट सकती है। बिजली विभाग रनियां यहां पर विद्युत पोल भी नहीं लगवा पा रहा है।

रनियां औद्योगिक क्षेत्र है, इसके चलते यहां पर काम कर रहे बाहरी लोगों ने जमीन खरीदने के बाद उसमें आशियाना बना कर रह रहे हैं। धीरे-धीरे कस्बे के बाहरी इलाके में खाली पड़ी जमीनों ने नई बस्तियों का रुप ले लिया है। इसमें विद्युत कनेक्शन तो बिजली विभाग ने बांट दिए लेकिन पोल, तार तथा अतिरिक्त ट्रांसफार्मर का इंतजाम नहीं किया जा सका है। इसके चलते लोगों ने जुगाड़ करते हुए बांस बल्ली गाड़कर काफी दूर से केबिल खींचकर घरों में रोशनी का इंतजाम किया है। जुगाड़ के पोल पर बिजली के लटक रहे तारों से होने वाले खतरे से बिजली विभाग के अधिकारी लापरवाह बने हैं।किशरवल रोड के आसपास विकसित हो रही नई बस्तियों में बांस बल्ली के सहारे बिजली के तारों को घरों तक ले जाया गया है। कई जगह तो तार इतने नीचे हो गए हैं कि लोग उसे हाथों से छू सकते हैं। यहां रहने वालों का कहना है कि कई बार विद्युत कंपनी के अधिकारियों को इस संबंध में मौखिक और लिखित रूप से जानकारियां दी गई हैं। इसके बाद भी उन्होंने न तो अभी तक यहां बिजली के पोल लगाने की व्यवस्था शुरू की है न इस समस्या का कोई हल निकाला है। इस संबंध में एसडीओ रनियां कुलदीप सिंह ने बताया कि सौभाग्य योजना पार्ट तीन में सर्वे कराकर शासन को मंजूरी के लिए भिजवाया गया है, मंजूरी मिलने पर काम शुरू किया जाएगा।

संबंधित खबरें