DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  कानपुर  ›  सीएसजेएमयू: एक विषय के एक बहुविकल्पीय पेपर का शिक्षकों ने किया विरोध
कानपुर

सीएसजेएमयू: एक विषय के एक बहुविकल्पीय पेपर का शिक्षकों ने किया विरोध

हिन्दुस्तान टीम,कानपुरPublished By: Newswrap
Fri, 11 Jun 2021 06:21 PM
सीएसजेएमयू: एक विषय के एक बहुविकल्पीय पेपर का शिक्षकों ने किया विरोध

कानपुर। वरिष्ठ संवाददाता

एक विषय का एक बहुविकल्पीय पेपर कराने को लेकर शिक्षकों में रोष है। उनका मानना है कि इस प्रक्रिया से मेधावी छात्रों का भविष्य खराब हो सकता है। इस बात को लेकर कूटा के पदाधिकारियों ने विवि में हुई परीक्षा समिति में विरोध भी दर्ज कराया था। वहीं, कूटा के अन्य पदाधिकारी और कानपुर विश्वविद्यालय स्ववित्तपोषित शिक्षक एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. कमलेश यादव व महामंत्री डॉ. अखंड प्रताप सिंह ने भी विरोध जताया है। शिक्षकों का कहना है कि पिछले वर्ष जिस प्रारूप में परीक्षाएं संपन्न कराई गई थीं, उसी तरह इस बार भी होनी चाहिए थीं।

छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय में इस महामारी के बीच सत्र को नियमित करने के लिए परीक्षा में कई बदलाव किए गए हैं। इस बार एक विषय का सिर्फ एक पेपर बहुविकल्पीय माध्यम से कराया जाएगा। इसको लेकर शिक्षकों में रोष है। डीजी कॉलेज की शिक्षिका व कूटा (कानपुर विश्वविद्यालय शिक्षक संघ) में संयुक्त मंत्री डॉ. अर्चना दीक्षित ने कहा कि एक विषय का एक पेपर कराना गलत बात है। प्रैक्टिकल नहीं हो रहा है तो मौखिक परीक्षा कराई जाना चाहिए। पूरा पेपर बहुविकल्पीय कराना भी गलत है। कूटा के महामंत्री डॉ. अवधेश सिंह ने परीक्षा समिति में बहुविकल्पीय पेपर कराने का विरोध किया था। वे वर्ष 2020 में हुए प्रारूप के अनुसार परीक्षा कराने की मांग कर रहे थे। डॉ. कमलेश यादव ने कहा कि एक विषय का एक पेपर और वह भी बहुविकल्पीय माध्यम से कराना ठीक नहीं है। इससे मेधावी छात्रों को काफी नुकसान होगा।

संबंधित खबरें