CM says, first time farmers in government agenda - सीएम योगी बोले, सरकार के एजेंडे में पहली बार किसान DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीएम योगी बोले, सरकार के एजेंडे में पहली बार किसान

CM in Kanpur came first in the agenda of Kisan government

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहली बार सरकार के एजेंडे में किसान शामिल हुआ। अभी तक जाति, क्षेत्र और भाषा की राजनीति हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की बागडोर संभालते ही कहा था कि देश को खुशहाल बनाना है तो किसानों की आमदनी दोगुनी करनी होगी। इस दिशा में काम शुरू हुआ और सार्थक परिणाम दिखने लगे हैं। उन्होंने कहा कि अफसोस होता है किसानों की बदहाली देखकर। 

गुरुवार को कानपुर में एग्रीकल्चर टेक्नोलॉजी एप्लीकेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट (अटारी) कैंपस में आयोजित यूपी-उत्तराखंड के किसान विज्ञान केंद्रों की कार्यशाला के उद्घाटन समारोह में पहुंचे मुख्यमंत्री ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद संभालते ही स्वायल टेस्टिंग की बात की थी। उन्हें पता था कि कृषि उत्पादन बढ़ाना है तो बीमार मिट्टी को ठीक करना होगा। तीन साल में 14 करोड़ किसानों के स्वायल टेस्टिंग कार्ड बनाए गए हैं। 

पिछली सरकारें बगैर सोचे समझे गन्ने का मूल्य बढ़ातीं गईं। उत्पादन बढ़ाने पर सरकारों ने जोर नहीं दिया। नतीजतन चीनी मिलें बीमार होती गईं और किसानों के भुगतान फंसते गए। हमने तकनीक पर ध्यान नहीं दिया। मौसम चक्र पर कोई काम नहीं हुआ। किसान बदहाल हुआ और आत्महत्याओं का दौर शुरू हो गया। किसान खुदकुशी करते रहे और 10-15 सालों की सरकारें मौन रहीं।

सीएम ने कहा कि पूर्वी यूपी की चीनी मिलें बंद होती गईं। उत्तर प्रदेश सरकार ने गन्ना मूल्य बढ़ाने के बजाय गन्ना उत्पादन पर जोर दिया है। गन्ना उत्पादन बढ़ेगा तो किसानों की आय बढ़ेगी और कच्चे माल के अभाव में चीनी मिलें बंद नहीं होंगी। साथ ही मिलों पर आर्थिक बोझ भी नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि पहली बार किसानों को स्वावलंबी बनाने पर प्रधानमंत्री ने काम शुरू किया। आज अच्छे नतीजे सबके सामने हैं। किसान भी सरकार के एजेंडे का हिस्सा बन गया। सरकारों ने उपलब्ध संसाधनों का प्रयोग नहीं किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CM says, first time farmers in government agenda