DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  कानपुर  ›  छत्तीसगढ़ की तर्ज पर लगेंगे बायोगैस प्लांट, गांव होंगे स्वच्छ
कानपुर

छत्तीसगढ़ की तर्ज पर लगेंगे बायोगैस प्लांट, गांव होंगे स्वच्छ

हिन्दुस्तान टीम,कानपुरPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 06:31 PM
छत्तीसगढ़ की तर्ज पर लगेंगे बायोगैस प्लांट, गांव होंगे स्वच्छ

छत्तीसगढ़ की तर्ज पर ग्रामीण इलाकों में बायोगैस प्लांट लगाने की तैयारी है। स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत पंचायती राज विभाग मॉडल के रूप में हर ब्लॉक में एक प्लांट लगा सकता है। डीपीआरओ कमल किशोर, जिला सलाहकार विक्रम शर्मा की राज्य स्तरीय कमेटी ने छत्तीसगढ़ जाकर वहां के मॉडल को देखा। अब उसे लागू कराकर गांवों को स्वच्छ बनाया जाएगा। इसके लिए जल्द ही डीपीआरओ शासन में प्रस्तुतीकरण देंगे। फिर उसे कानपुर और यूपी के अन्य जिलों में लागू किया जा सकता है।

डीपीआरओ ने बताया कि छत्तीसगढ़ में गोबर धन योजना चल रही है। इसमें गोबर दो और गैस लो का प्रावधान है। इसके अंतर्गत दो रुपए किलो का गोबर ग्रामीणों से खरीदा जाता है। गोबर पहुंचाने की जिम्मेदारी ग्रामीणों की है। फिर उनको फ्री व यूजर चार्ज लेकर गैस दी जाती है। प्लांट को स्वयं सहायता समूहों के जरिए चलवाया जाएगा। 250 किलो गोबर से 10 क्यूबिक गैस का उत्पादन होता है। लाइनें बिछाकर गैस गांवों तक पहुंचाई जाती है।

गीला व सूखा कूड़ा बेच रहे

जिला सलाहकार विक्रम शर्मा ने बताया कि छत्तीसगढ़ में स्वच्छ भारत में काफी काम हो रहा है। वह गीला और सूखा कूड़ा लेकर उसे बेच रहे हैं। गीले कूड़े से खाद और कंडे बनाते हैं। सूखे कूड़े से दाने बनाते हैं। उसका उपयोग सड़क निर्माण में होता है। कूड़े के जरिए लाखों रुपए कमा रहे हैं। प्लांट लगने से गांवों में लगा गोबर औा कूड़े का ढेर भी खत्म हो जाएगा। गांवों वालों को रोजगार मिलेगा।

संबंधित खबरें