DA Image
23 सितम्बर, 2020|7:49|IST

अगली स्टोरी

चतुर्दशी पर हुई भगवान हरि की आराधना, बांधे गए अनंत सूत्र

default image

अनंत चतुर्दशी मंगलवार को मनाया गया। यह त्योहार हर वर्ष भादौं मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को होता है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा अर्चना कर अनंत सूत्र बांधने की परम्परा है। पर्व को लेकर बाजारों में कई दिनों से अनंत सूत्र की दुकानें सजी थीं।

चतुर्दशी को अनंत चौदस के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन श्रद्धालु व्रत रखकर और पकवान बनाकर भगवान विष्णु के अनंत रूप की पूजा करते हैं। हाथों में बांधने वाले अनंता का मंगलवार को पहले पूजन हुआ। उसके बाद ही आगे का विधि-विधान हुआ।

आचार्यों के मुताबिक पीला रंग का अनंता शुभ होता है। हालांकि कई लोग अपने-अपने हिसाब से अनंता बांधते हैं। आचार्य चंदन शुक्ल ने बताया कि अनंत चतुर्दशी पर गणेशजी का विसर्जन शुभ माना जाता है। मान्यता है कि इस दिन गणेश जी का विसर्जन करने से पुण्य फल मिलता है। बप्पा के विसर्जन के चलते पर्व का महत्व और बढ़ जाता है। पर्व को लेकर को शहर में रौनक देखते ही बनी लोगों ने अपने पसंद के रंग बिरंगे अनंत सूत्र बांधकर पर्व मनाया। घरों में भी पूजा पाठ के लिए पकवान में बनाए गए थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Worship of Lord Hari on Chaturdashi tied infinite thread