DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  कन्नौज  ›  बरसात से पहले ही छलनी हो गईं इत्रनगरी की सड़कें
कन्नौज

बरसात से पहले ही छलनी हो गईं इत्रनगरी की सड़कें

हिन्दुस्तान टीम,कन्नौजPublished By: Newswrap
Sun, 13 Jun 2021 11:41 PM
बरसात से पहले ही छलनी हो गईं इत्रनगरी की सड़कें

कन्नौज। हालांकि अभी कायदे से बरसात शुरु भी नहीं हुई है। मासनूस से पहले की मामूली बरसात ही हुई है, लेकिन जिले की सड़कों की सूरत बिगड़ गई है। चाहे शहर को जोड़ने वाली प्रमुख सड़कें हों या जीटी रोड से जुड़ने वाले सम्पर्क मार्ग हों, इन सभी की हालत खस्ता हो चुकी है। एक दिन पहले ही हुई हल्की बारिश के बाद से ही कई सड़कों के गड्ढे लबालब भरे हुए हैं। ऐसे में इसका अंदाजा लगाया जा सकता है कि बारिश के दौरान उन सड़कों की सूरत कैसी होगी।

बारिश से पहले ही नाला बना मानपुर रोड

नाले की शक्ल ले चुकी यह तिर्वा रोड से मानपुर जाने वाली यह सड़क जिला मुख्यालय से बमुश्किल एक किलोमीटर की दूरी पर है। इस सड़क से रोजाना बड़ी संख्या में लोगों का आवागमन होता है। लेकिन इससे गुजरना सभी के लिए मुकिश्ल भरा होता है। बरसात से पहले ही इस पर नाले का पानी बह रहा है। बारिश के दौरान होने वाली परेशानी का अंदाजा ही लगाया जा सकता है।

नजारा दो: पोस्टमार्टम हाउस जाने वाली सड़क बदहाल

जिला अस्पताल से आगे जीटी रोड से होकर पोस्टमार्टम हाउस जाने वाली सड़क अपनी बदहाली की हकीकत बयां कर रही है। जीटी रोड से जुड़ी यह सड़क खस्ता हो चुकी है। रास्ते में जगह-जगह बड़े-बड़े गड्ढे हैं। इन से होकर गुजरना काफी मुश्किल होता है। लेकिन प्रशासन की अनदेखी और महकमे की लापरवाही का खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है।

मौसमपुर मौरारा जाने वाली सड़क की बदरंग तस्वीर

मौसमपुर मौरारा जाने वाली सड़क की बदहाली जिला मुख्याल से नजदीक होने के बावजूद पूरे सिस्टम की हकीकत उजागर करती है। इस सड़क को देखकर न तो सरकार के दावे सही साबित होते हैं, न ही गड्ढा भरो अभियान ही इसके सामने कहीं टिक पाता है। इधर से होकर गुजरने वाले जब गड्ढों से होकर गुजरते हैं तो सिस्टम को कोसे बिना नहीं रह पाते हैं। जाने प्रशासन का ध्यान कब जाएगा।

सीएचसी, ब्लॉक व नवोदय विद्यालय पहुंचना मुश्किल

गुरसहायगंज। तिर्वा रोड से जलालाबाद को जोड़ने वाला यादव नगर से बना सम्पर्क मार्ग न सिर्फ पूरी तरह से समाप्त हो चुका है। बल्कि रोड से उखड़ी गिटटी ने वाहनों के संचालन को भी बंद कर दिया है। इस मार्ग से लोग जलालाबाद सीएचसी, ब्लॉक कार्यालय व जवाहर नवोदय विद्यालय सहित जमला, टिकैयापुर्वा, अनौगी, गौरियापुर सहित दर्जनों गांवों में आवागमन करते हैं। लेकिन इसकी खस्ता हालत के चलते राहगीरों व वाहन चालकों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बरसात में परेशानी बढ़ेगी।

गड्ढों की भेंट चढ़ा गुरसहायगंज-तिर्वा मार्ग

गुरसहायगंज से तिर्वा को जोड़ने वाला मार्ग सबसे व्यस्त रहता है। जिसपर रोजाना हजारों की संख्या में बड़े व छोटे वाहनों का आवागमन रहता है। यह मार्ग मुख्य इसलिए है कि यह सैकड़ों ग्रामों के लोगों को नगर से जोड़ता है। इस मार्ग से आसपास के जनपद औरैया, इटावा, फर्रुखाबाद के लोगों का भी आना-जाना रहता है। मार्ग पर जगह-जगह गड्ढे हैं। मार्ग पर पैचवर्क के नाम पर खाना पूरी की गई है। भारी वाहनों के आवागमन के कारण यह मार्ग अधिकतर क्षतिग्रस्त ही रहता है। जिससे लोगों को परेशानी होती है।

संबंधित खबरें