Thursday, January 20, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश कन्नौजटीईटी: इत्रनगरी में 19685 परीक्षार्थियों को लगा झटका

टीईटी: इत्रनगरी में 19685 परीक्षार्थियों को लगा झटका

हिन्दुस्तान टीम,कन्नौजNewswrap
Mon, 29 Nov 2021 03:06 AM
कन्नौज संवाददाता 
 सब कुछ सही था। प्रशासन चौकस था। सुरक्षाकर्मी मुस्तैद थे। एक...
1/ 3कन्नौज संवाददाता सब कुछ सही था। प्रशासन चौकस था। सुरक्षाकर्मी मुस्तैद थे। एक...
कन्नौज संवाददाता 
 सब कुछ सही था। प्रशासन चौकस था। सुरक्षाकर्मी मुस्तैद थे। एक...
2/ 3कन्नौज संवाददाता सब कुछ सही था। प्रशासन चौकस था। सुरक्षाकर्मी मुस्तैद थे। एक...
कन्नौज संवाददाता 
 सब कुछ सही था। प्रशासन चौकस था। सुरक्षाकर्मी मुस्तैद थे। एक...
3/ 3कन्नौज संवाददाता सब कुछ सही था। प्रशासन चौकस था। सुरक्षाकर्मी मुस्तैद थे। एक...

कन्नौज संवाददाता

सब कुछ सही था। प्रशासन चौकस था। सुरक्षाकर्मी मुस्तैद थे। एक अदद नौकरी के लिए महीनों से तैयारी करने के बाद परीक्षार्थी परीक्षा केंद्र पर अपनी किस्मत आजमा रहे थे। अचानक उन्हें बताया गया कि शासन ने परीक्षा निरस्त कर दिया है। यह सुन सभी हक्के-बक्के रह गए। बुझे मन से परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र से मायूस होकर वापस होना पड़ा।

रविवार को पूर्व निर्धारित शेड्यूल के मुताबिक टीईटी की परीक्षा चल रही थी। लेकिन कहीं दूसरी जगह पेपर लीक होने की खबर ने सभी को सकते में डाल दिया। यहां प्रशासन की ओर से जिले भर में अलग-अलग 27 सेंटर पर परीक्षा आयोजित कराने की व्यवस्था की गई थी। पहली पाली में 27 सेंटर पर 12031 परीक्षार्थियों को और दूसरी पाली में 19 सेंटर पर 7654 परीक्षार्थियों को पेपर देना था। सुबह की पहली पाली में तय समय पर परीक्षा शुरू भी हो चुकी थी। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में परीक्षा आयोजित हो रही थी। अफसरों की टीम बारी-बारी से अलग-अलग सेंटर का मुआयना कर रही थी। खुद डीएम भी शहर के ही सेंटरों का जायजा ले रहे थे। लेकिन इसी बीच पेपर लीक होने की जानकारी सभी की मानो गहरा झटका दे डाला। न सिर्फ प्रशासन की तैयारियां धरी रह गईं बल्कि करीब 20 हजार परीक्षार्थियों की मेहनत पर पानी फिर गया।

तलाशी के बाद गए अंदर, बुझे मन से आए बाहर

टीईटी की परीक्षा के दौरान प्रशासन की ओर से तगड़ी व्यवस्था की गई थी। किसी को भी बिना पड़ताल के परीक्षा केंद्र में जाने की इजाजत नहीं थी। जांच की प्रक्रिया के बाद ही परीक्षार्थी अंदर गए, लेकिन जब परीक्षा निरस्त करने की जानकारी मिली तो मायूस होकर बाहर वापस आना पड़ा। बाहर आने वाले परीक्षार्थियों के चेहरे पर इसकी मायूसी साफ झलक रही थी।

अलर्ट हो गई पुलिस, जगह-जगह तैनाती

परीक्षा निरस्त होने के बाद प्रशासन अलर्ट हो गया। परीक्षा निरस्त होने से कहीं परीक्षार्थी भड़क न जाएं और कोई हंगामा हो, इसी के मद्देनजर प्रशासन ने जगह-जगह पुलिस की टीम मुस्तैद कर दी। खासकर बस अड्डे और तगड़ी व्यवस्था की गई। सेंटर के बाहर और रास्ते में भी चौकसी बढ़ा दी गई। बिखर गए सपने

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें