DA Image
17 सितम्बर, 2020|4:10|IST

अगली स्टोरी

शहर से गुजरी जीटी रोड में ही जगह-जगह हो चुके गड्ढों से अफसर बेखबर

शहर से गुजरी जीटी रोड में ही जगह-जगह हो चुके गड्ढों से अफसर बेखबर

कहने को तो सड़कों की बदहाली दूर करने के लिए काफी दावे हो रहे हैं। नई सड़कों को बनाए जाने का दावा किया जा रहा है। लेकिन हकीकत कुछ और ही है। ग्रामीण अंचलों की सड़कों की बदहाली तो जगजाहिर है ही बीच शहर से गुजरी जीटी रोड भी खस्ताहाल हो रही है। पहले से ही मौजूद गड्ढे अब और गहरे हो गए हैं।

बरसात से पहले से ही खस्ताहल जीटी रोड की सूरत बरसात के बाद भी जस की तस है। शहर के बीच से गुजरी जीटी रोड में पहले से ही मौजूद गड्ढों का दायरा और बढ़ गया है। उन गड्ढों से बचने के लिए राहगीरों को बचकर निकलना पड़ रहा है। गाड़ियां बाकायदा ब्रेकर की ही मानिंद पहले रुकती हैं फिर आगे बढ़ती हैं। कन्नौज से दिल्ली और कानुपर जाने वाले रूट पर जीटी रोड की सूरत काफी बदहाल हो चुकी है। बस स्टैंड से लेकर कानपुर जाने वाले रूट पर तो शहर के ही हिस्से में काफी गड्ढे हो चुके हैं। कुछ गड्ढे बरसात से पहले के थे। मरम्मत न होने अब वह और गहरे हो गए हैं। यहां सरायमीरा, अंधा मोड़, गल्ला मंडी, ओवरब्रिज, पूर्वी बाईपास पर जगह-जगह गड्ढे हो चुके हैं। पूर्वी बाईपास के गड्ढे तो और भी बड़े हो गए हैं।

कई बार हो चुका हादसा

जीटी रोड के गड्ढे कई बार हादसे का सबब बन चुके हैं। जिला अस्पताल के सामने ही कई बार बाइकसवार चुटहिल हो चुके हैं। मानीमऊ के पास के गड्ढे भी हादसे को दावत देते रहते हैं। सरायमीरा से मानीमऊ के बीच चलने वाले टेम्पो संग भी हादसा हो चुका है। इन गड्ढों को देखकर ड्राइवर पहले अपनी गाड़ी को पूरी तरह से रोकता है, उसके बाद पहियों को धीरे से निकालता है, ताकि कोई हादसा न हो।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Officers oblivious of the pits that have been moved from place to place in GT Road which passed through the city