DA Image
23 सितम्बर, 2020|1:11|IST

अगली स्टोरी

गजानन की भक्तिरस में डूबी इत्रनगरी, गूंज रहे जयकारे

गजानन की भक्तिरस में डूबी इत्रनगरी, गूंज रहे जयकारे

1 / 2गणेशोत्सव को लेकर इन दिनों इत्रनगरी में धर्मिक आयोजनों की धूम है। गणेश चतुर्थी के बाद से गणपति बप्पा का पूरे विधि-विधान से पूजन किया जा रहा है। कोरोना संक्रमण को लेकर भीड़भाड़ नहीं हो रही, लेकिन शहर...

गजानन की भक्तिरस में डूबी इत्रनगरी, गूंज रहे जयकारे

2 / 2गणेशोत्सव को लेकर इन दिनों इत्रनगरी में धर्मिक आयोजनों की धूम है। गणेश चतुर्थी के बाद से गणपति बप्पा का पूरे विधि-विधान से पूजन किया जा रहा है। कोरोना संक्रमण को लेकर भीड़भाड़ नहीं हो रही, लेकिन शहर...

PreviousNext

गणेशोत्सव को लेकर इन दिनों इत्रनगरी में धर्मिक आयोजनों की धूम है। गणेश चतुर्थी के बाद से गणपति बप्पा का पूरे विधि-विधान से पूजन किया जा रहा है। कोरोना संक्रमण को लेकर भीड़भाड़ नहीं हो रही, लेकिन शहर लेकर ग्रामीण इलाकों में माहौल भक्तिमय बना हुआ है। गणेशोत्सव के पांचवें दिन भक्त बप्पा को मोदक का भोग लगाकर आराधना में डूबे नजर आए।

शहर में भव्य पंडाल सजाकर गणेशजी की मूर्ति विराजित नहीं हैं, लेकिन परिवार के साथ घर में रहकर ही लोग बप्पा की भक्ति में डूबे हैं। भक्त कोरोना संकट के बीच बप्पा से घर परिवार की रक्षा की प्रार्थना कर रहे है। कई घरों में विराजे गजानन की मिट्टी से बनी मूर्ति श्रद्धालुओं के आस्था का आकर्षण बनी हैं। गणेशोत्सव को लेकर महिलाओं की आस्था देखते ही बन रही है। बप्पा को मोदक भोग लगाकर ढोलक की थाप पर भजन-कीर्तन करने में जुटी है।

गणेशोत्सव के पांचवे दिन बुधवार को शहर के कचहरी टोला मोहल्ले में विराजे बप्पा का आचार्य चंदन शुक्ल की मंडली ने विधि-विधान से पूजा-अर्चना और हवन कराया। कटरा मोहल्ले में आचार्य शिवांग अग्निहोत्री ने तो बाबा कुआ के करीब विराजे गौरी नंदन का आचार्य विवेक तिवारी ने पूजन कराया। मीराटोला में विराजे गणपित की आचार्य गोविंद त्रिपाठी ने मंत्रोच्चारण के साथ पूजा अर्चना की।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Itranagri immersed in the devotion of Gajanan Jayakare echoing