DA Image
14 अगस्त, 2020|8:30|IST

अगली स्टोरी

पाक कला में आ रहा निखार, सिलाई-कढ़ाई का भी आया हुनर

पाक कला में आ रहा निखार, सिलाई-कढ़ाई का भी आया हुनर

लॉकडाउन का एक महीना कब गुजर गया, यह पता ही नहीं चला। भले की यह चुनौतीपूर्ण हो, लेकिन महिलाओं की पाक कला में निखार आया तो परिजनों ने तरह-तरह के व्यंजनों का स्वाद चखा। घर की महिलाओं व लड़कियों का भी सिलाई-कढ़ाई में हुनर निखरा। इस समय को वह अनोखा व यादगार बता रही हैं। कहना है कि परिवार के साथ रहने का समय मिला। एक-दूसरे को समझने और बात करने का मौका मिला। पेश है बातचीत के अंश

वीना सिंह चौहान बोलीं, परिवार का भरपूर साथ मिल रहा है। पति व बच्चों की डिमांड पर खाने के कई आइटम बनाती हूं। बेटी को भी सिलाई-कढ़ाई व पाक कला सिखा रही हूं। इन दिनों रसोई में मेहनत जरूर लग रही है, लेकिन सबको साथ देखकर सुकून मिलता है।

मोहिनी मिश्रा ने कहा, लॉकडाउन में लजीज व्यंजनों को पकाने की फरमाइशें खूब हैं। लेकिन बच्चों व परिजनों का मन मारना नहीं चाहती हूं। बच्चों के साथ कैरम खेलने व टीवी देखने का भी खूब वक्त मिल रहा है, व्यस्तता भी रहती है, लेकिन अच्छा लग रहा है।

सरिता कठेरिया बोलीं, पति व बच्चे पूरे दिन घर में रहते हैं, इससे काम बहुत रहता है, लेकिन एक-दूसरे का स्नेह भी खूब मिलता है। इससे हर सदस्य खुश है। रोज नए-नए पकवान बनते हैं, सबकी सेहत भी सुधर रही है। लॉकडाउन के यह यादगार पल रहेंगे।

शोभना पाराशर बोलीं, इन दिनों अनोखे स्वाद वाले व्यंजन बनाने को लेकर कुछ न कुछ बनाती रहती हूं। पति व बच्चों के साथ समय बिताना अच्छा लग रहा है। परिजनों का सहयोग करने में संतुष्टि भी मिलती है। लॉकडाउन खुलने पर फिर वही पुराना ढर्रा शुरू हो जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Improvement in cooking sewing and embroidery skills