DA Image
21 सितम्बर, 2020|12:10|IST

अगली स्टोरी

विदा हुए बप्पा, इत्रनगरी की फिजाओं में घुला सादगी का भक्तिरस

विदा हुए बप्पा, इत्रनगरी की फिजाओं में घुला सादगी का भक्तिरस

1 / 2गणेश चतुर्थी पर घरों में विराजे गौरी नंदन को श्रद्धालुओं ने मंगलवार को सादगी के साथ विदाई दी। इस बार न तो विजर्सन के मौके पर शोभायात्रा निकली और न ही ढोल-तांसे के साथ अबीर-गुलाल उड़ाती भक्तों की...

विदा हुए बप्पा, इत्रनगरी की फिजाओं में घुला सादगी का भक्तिरस

2 / 2गणेश चतुर्थी पर घरों में विराजे गौरी नंदन को श्रद्धालुओं ने मंगलवार को सादगी के साथ विदाई दी। इस बार न तो विजर्सन के मौके पर शोभायात्रा निकली और न ही ढोल-तांसे के साथ अबीर-गुलाल उड़ाती भक्तों की...

PreviousNext

गणेश चतुर्थी पर घरों में विराजे गौरी नंदन को श्रद्धालुओं ने मंगलवार को सादगी के साथ विदाई दी। इस बार न तो विजर्सन के मौके पर शोभायात्रा निकली और न ही ढोल-तांसे के साथ अबीर-गुलाल उड़ाती भक्तों की टोलियां दिखी। अधिकांश भक्तों ने बप्पा को कार में विराजमान किया और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए गजानन का विसर्जन किया।

कोरोना खौफ के साए में 10 दिनों तक घरों में हुई बप्पा की पूजा-अर्चना के बाद मंगलवार को भक्तों ने गणपति बप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ, एक-दो तीन-चार, गणपति जी की जय-जयकार, गणपति बप्पा मोरया, मंगल मूर्ति मोरया के नारों के साथ सादगी के साथ विदा किया। कोरोना महामारी की वजह से इस बार कहीं भी भव्य गणेशोत्सव के आयोजन नहीं हुए थे।

हर किसी ने शासन की गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए गणेश चतुर्थी पर गजानन को घरों में ही श्रद्धाभाव के साथ विराजमान किया था। सुबह-शाम पूजा-पाठ के साथ आरती-भोग और भजन कीर्तन के आयोजन चलते रहे। शहर के कटरा मोहल्ला में विदाई से पहले बप्पा की महाआरती हुई। यहां आचार्य शिवांग अग्निहोत्री ने 10 दिनों तक लगातार विवि विधान से पूजन कराया।

मोहल्ला कचहरी टोला में आचार्य चंदन शुक्ल की मंडली तो बाबा कुआ पर आचार्य विवेक तिवारी और आचार्य हरिओम पूजा पाठ कराते रहे। बड़ा बाजार में आचार्य मृत्युंजय मिश्र ने रोजाना पूजन कराया। मोहल्ला मीराटोला में आचार्य गोविंद त्रिपाठी मंत्रोच्चारण से पूजा पाठ कराते रहे।

अनंत चतुदर्शी को पूरे हुए 10 दिन

आचार्य शिवांग अग्निहोत्री ने बताया कि गणेश चतुर्थी से 10 दिवसीय गणशोत्सव मंगलवार को अनंत चतुर्दशी को पूरा हो गया। विदाई के मौके पर बप्पा को कोरोना संकट ले जाने व अगले वर्ष सुख, समृद्धि और शांति को लेकर आने का न्योता दिया गया।

कोरोना की वजह से नहीं हुए भंडारे

इस बार सभी तीज त्योहार कोरोना के खौफ के बीच बीते। सभी उत्सवों की रौनक फीकी-फीकी रही। मंगलवार को गणेशोत्सव पर भंडारे भी नहीं हुए। यहां तक वायरस के कारण भक्त प्रसाद वितरण करने में भी पहरेज करते दिखे।

चौकन्ना प्रशासन, हर जगह हुई निगरानी

गणेश विसर्जन को लेकर पुलिस प्रशासन खासा चौकन्ना रहा। शहर लेकर गंगा तट पर भीड़ इकट्ठा न हो इसलिए पुलिसकर्मी निगरानी करते रहे। अराजकतत्वों पर निगरानी करने के लिए सादी वार्दी में भी पुलिसकर्मी तैनात रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Departed bappa devotionals of simplicity dissolved in the beauty of the perfume