DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुत्ते की मौत पर गार्ड ने ट्रेन आगे ले जाने से इंकार किया

ट्रेन में बुक कराए गए कुत्ते की मौत पर गार्ड ने गाड़ी आगे ले जाने से इंकार कर दिया। सूचना के बाद कुत्ते को उसी ट्रेन में यात्रा कर रहे उसके मालिक को खोज कर सौंपा गया। मालिक ने मरे कुत्ते को झांसी स्टेशन पर उतारने की लिखित स्वाकारोक्ति दी तब करीब 10 मिनट की देरी से ट्रेन आगे रवाना हो सकी।

हजरत निजामुद्दीन से चलकर वास्कोडिगामा की ओर जा रही गोवा एक्सप्रेस में हरियाणा के राजेन्द्र बजाज अपने पालतू कुत्ते को साथ लेकर हजरत निजामुद्दीन से मिरज जा रहे थे। रास्ते में अचाकन कुत्ते की मौत हो गई। झांसी स्टेशन पर गुरुवार रात ट्रेन में जब गार्ड की ड्यूटी बदली तो नए गार्ड को कुत्ता मरा मिला। ट्रेन गार्ड ने इसकी जानकारी ऑपरेटिंग विभाग को दी। ऑपरेटिंग ने कमर्शियल विभाग को जानकारी देते हुए कुत्ते की बुकिंग कराने वाले यात्री के सम्बंध में जानकारी करने को कहा। इस बीच गाड़ी के सिग्नल होने पर ऑपरेटिंग विभाग ने ट्रेनगार्ड को आदेश दिया कि गाड़ी आगे रवाना की जाए। ट्रेनगार्ड ने जवाब दिया जब तक मृत कुत्ते को उसके मालिक के सुपुर्द नहीं किया जाता ट्रेन आगे नहीं चलायी जा सकती। इसके बाद राजेन्द्र बजाज की खोजबीन शुरू हुई। उनका का टिकट वेटिंग में होने के कारण उसको खोजने में दिक्कत हुई। अंतत: वह आरक्षित कोच नम्बर एस-2 में मिले। रेलवे स्टॉफ ने उनको कुत्ते की मौत की खबर दी हो गई है और बताया कि मरे हुए कुत्ते को लेकर ट्रेन आगे नहीं बढ़ सकती। उनको मरा हुआ कुत्ता सुपुर्द करने के बाद बताया गया या तो वह कुत्ते को लेकर झांसी स्टेशन पर ही उतर जाएं या लिखकर दें कि मरा कुत्ता झांसी स्टेशन पर छोड़ रहे हैं। उनके लिखकर देने के बाद कुत्ता सफाई कर्मियों के हवले किया गया तब ट्रेन आगे बढ़ पायी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The dog refused to take the train forward on the dog's death