DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिश्वत लेते लेखपाल को रंगे हाथों दबोचा

रिश्वत लेते लेखपाल को रंगे हाथों दबोचा

मऊरानीपुर थाना क्षेत्र के अर्न्तगत एंटी करप्शन झांसी की टीम ने एक लेखपाल को रिश्वत लेते रंगे हाथ दबोच लिया। जिससे वहां हड़कंप मच गया। टीम ने यह कार्रवाई गांव में रहने वाले एक किसान की शिकायत पर की। पीडित किसान ने लेखपाल पर सूखा राहत की राशि खाते में पहुंचाने के एवज में एक हजार रूपये की रिश्वत मांगने की शिकायत की थी। टीम ने उक्त लेखपाल को थाना पुलिस के हवाले कर दिया है।

मऊरानीपुर के वीरा गांव में रहने वाला ग्रामीण भागीरथ सूखा राहत की राशि को खाते में पहुंचाने के लिए लेखपाल के चक्कर लगा रहा था। जिसके तहत लेखपाल उससे राशि पहुचाने के एवज में एक हजार रूपये रिश्वत की मांग कर रहा था। चक्कर लगा कर थक चुके भागीरथ ने मामले की शिकायत लिखित रूप से एंटी करप्शन ब्यूरो सहित अन्य आलाधिकारियों से की थी। शिकायत पर एक्टिव हुई एंटी करप्शन की टीम ने सबसे पहले भागीरथ से मामले की जानकारी ली। इसके बाद टीम ने अपनी योजना के मुताबिक भागीरथ को रकम देकर भेजा। इसके साथ ही आस पास अपना जाल बिछा लिया। जैसे ही भागीरथ ने उक्त लेखपाल को रिश्वत की रकम दी। वैसे ही एंटी करेप्शन विभाग की टीम ने उसे रंगे हाथ दबोच लिया। एंटी करेप्शन विभाग के अधिकारी अम्बरीष यादव ने बताया कि लेखपाल मुन्नालाल के खिलाफ शिकायत मिली थी। उसी आधार पर कार्रवाई की गई है। उन्होंने बताया कि उक्त लेखपाल को मऊरानीपुर थाना पुलिस के हवाले कर दिया गया है।

इनको भी पकड़ा था रंगे हाथ

जुलाई 17 में जिला पूर्ति कार्यालय झांसी में तैनात लिपिक ओम प्रकाश गुप्ता को कोटेदार की शिकायत पर 5,000 रूपये की रिश्वत लेने में दबोचा था।

अगस्त 17 सीएमओ कार्यालय महोबा के वरिष्ठ लिपिक प्रदीप कोफर्ड को चिकित्सा प्रति पूर्ति बाउचर बनाने के नाम पर 15,000 की रिश्वत लेने में दबोचा था।

नवम्बर 17 उच्च शिक्षा कार्यालय झांसी में तैनात स्टेनो राम मूर्ति सरोज को रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट देने के नाम पर 15,000 की रिश्वत लेने में दबोचा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Taking the bribe to the writer Dinged hands