DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खनन पर लगी रोक ने बढ़ाए बालू के दाम

बारिश को लेकर लगाई गई खनन पर रोक के कारण अब भंडारण की गई बालू की ही लोगों को सप्लाई की जा रही है। जिसके लिए जिले भर के 21 ठेकेदारों को लाइसेंस जारी किया गया है। खनन न होने और भंडारण से पूर्ति के चलते बालू के दामों में भी इजाफा हुआ है। जो आम लोगों की जेब पर भारी पड़ रहा है।

बुन्देलखण्ड में बालू का खनन जोरों पर होता है और जिले में अभी पुराने पांच घाट पर ही बालू का खनन किया जा रहा था। लेकिन गाइड लाइन के अनुसार बालू के खनन पर पूरी तरह से रोक लगी हुई है। ऐसे में जिले में बालू की पूर्ति के लिए भंडारण का लाइसेंस जारी किया गया था। जिले भर में ऐसे 21 ठेकेदार है जिनके पास बालू के भंडारण का लाइसेंस है।

मानक के अनुसार एक ठेकेदार के पास करीब 20 हजार घनमीटर बालू का भंडारण हो सकता है। इस तरह कुल सवा चार लाख घन मीटर बालू का भंडारण किया गया है। जिसमें हर रोज करीब 50 से 60 डंपर हर रोज बालू की खपत बताई जा रही है। खनिज विभाग ने बताया कि कहीं से भी जिले में खनन नहीं हो रहा है और पूरी तरह से रोक लगी हुई है। यदि कहीं खनन की जानकारी मिलती है तो वहां कार्रवाई की जाएगी।

13 नए घाट चिन्हित

जिले भर में अब बालू के लिए 13 नए घाटों को चिन्हित कर लिया गया है। इनकी जल्द ही वैधानिक कार्रवाई के तहत नए घाटों को शुरू किया जाएगा। जिसके बाद बालू से राजस्व में भी वृद्धि होगी।

बोले अधिकारी

जिला खनन अधिकारी मेहबूब खान ने कहा कि अभी भंडारण की बालू लोगों के बीच पहुंच रही है। इसके चलते कुछ दाम में वृद्धि है। लेकिन नियमों के तहत तय समय तक रोक रहेगी इसके बाद पट्टों से खनन वैधानिक प्रक्रिया के तहत शुरू किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mining hike extended by the price of sand