DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › झांसी › झांसी में पति का मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए एक साल से चक्कर काट रही महिला
झांसी

झांसी में पति का मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए एक साल से चक्कर काट रही महिला

हिन्दुस्तान टीम,झांसीPublished By: Newswrap
Fri, 09 Jul 2021 04:22 AM
झांसी में पति का मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए एक साल से चक्कर काट रही महिला

झांसी। संवाददाता

एक साल पहले हुई पति की मौत का मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिये पिछले एक साल से महिला जिला प्रशासन के अफसरों से लेकर नगर निगम कार्यालय के चक्कर काट रही है। महिला की माने तो पति की मौत घर पर हुई थी। लेकिन ससुर ने प्रार्थना पत्र देकर कह दिया कि रज्जन की मौत मेडिकल कालेज में हुई। प्रपत्रों में उलझे मामले की शिकायत महिला ने डीएम, सीडीओ व नगर आयुक्त से की है। बावजूद इसके उसके पति का मृत्यु प्रमाण पत्र जारी नहीं किया जा रहा। महिला पूछ रही, यहीं बता दो कैसे बनेगा प्रमाण पत्र?

नगर निगम कार्यालय पहुंची बरुआसागर निवासी गीता की माने तो उसके पति रज्जन की हालत बिगड़ने पर उसे मेडिकल कालेज में भर्ती कराया था। हालत में सुधार न होने व प्रतिदिन बरुआसागर से मेडिकल कालेज आने के कारण उसने 3 जुलाई 2020 को स्वेच्छा से पति को घर लेकर आ गई। 4 जुलाई को रज्जन की मौत हो गई। पति की मौत के बाद उसने मृत्यु प्रमाण पत्र के लिये आवेदन किया। लेकिन महिला के ससुर ने शिकायत कर दी थी कि रज्जन की मौत मेडिकल कालेज में हुई। इसको लेकर ब्लॉक बड़ागांव ने मृत्यु प्रमाण पत्र जारी नहीं किया। महिला का आरोप है कि कर्मचारियों ने प्रधान से लिखवाकर मांगा कि उसके पति की मौत घर पर हुई, तो उसने प्रधान से भी लिखवा दिया। बावजूद प्रमाण पत्र जारी न होने पर महिला ने इसकी शिकायत सीडीओ से की। सीडीओ ने नगर निगम भेज दिया। नगर आयुक्त ने महिला के आवेदन पर मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के आदेश दिये। लेकिन मामला बरुआसागर का होने के कारण नगर निगम ने प्रमाण पत्र जारी करने से इंकार कर दिया। सम्बंधित अफसर कहते हैं कि मौत मेडिकल कालेज में होती तो उसके प्रपत्रों पर नगर निगम मृत्यु प्रमाण पत्र जारी कर सकता था, लेकिन मौत बरुआसागर में घर पर हुई है तो ब्लॉक से ही मृत्यु प्रमाण पत्र जारी हो सकता है। प्रपत्रों में उलझी महिला पिछले एक साल से विभागों के चक्कर काट रही, लेकिन उसके पति की मौत का प्रमाण पत्र नहीं मिल सका।

संबंधित खबरें