DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पात्र किसान योजना से वंचित रहा तो डीएम जिम्मेदार: सीएम

हर हाल में आगामी 15 जून तक ऋण मोचन से संबंधित सभी शिकायतों का निस्तारण कर लिया जाए। यदि पात्रता होने के बाद किसान योजना लाभ से वंचित होता है या कोई अप्रिय घटना घटती है तो सीधे जिलाधिकारी जिम्मेदार होंगे। ये बात मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने वीडियोकान्फ्रेंसिग के जरिए कही।

उन्होंने कृषि ऋण मोचन योजना की प्रगति पर असंतोष जाहिर किया। कहा, सभी डीएम खुद योजना को देखें ताकि ऋण माफी में किसी प्रकार की लापरवाही न हो। कहा शिकायतें यदि बैंक स्तर की है तो जवाबदेही तय होनी चाहिए। बैंक ने स्वयं ही किसान का खाता संचालित किया है तो बैंक जवाबदेह होगा और बैंक के खिलाफ कार्रवाई होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी पात्र किसान योजना के लाभ से वंचित नहीं होना चाहिए। कड़े शब्दों में निर्देश दिए कि डीएम निर्धारित सीमा में शिकायतों का निस्तारण कराएं। खेद जाहिर करते हुए कहा कि योजना को गंभीरता से क्यों नहीं लिया। उन्होंने कहा कि यदि आधार नंबर नहीं है तो किसानों को योजनाओं का लाभ नहीं मिल सकेगा। जो भी कमियां है उन्हें दूर कर लिया जाए और अधिक से अधिक किसानों को योजनाओं का लाभ दिलाया जाए। इस दौरान कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, मुख्य सचिव राजीव कु मार, अपर मुख्य सचिव अनूप चंद पाण्डेय मौजूद रहे। इधर झांसी एनआईसी में डीएम शिव सहाय अवस्थी, सीडीओ निखिल के अलावा अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:If the eligible farmers are deprived of the scheme then the DM is responsible: CM