ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश झांसीहाय गर्मी! उर्फ ये गर्मी, ..पारा <bha>@</bha> 45.2

हाय गर्मी! उर्फ ये गर्मी, ..पारा <bha>@</bha> 45.2

हाय गर्मी! उर्फ ये गर्मी, ..पारा @ 45.2नौतपा के पहले तप उठा गांवों से लेकर शहर, हीट वेव का कहर बरकरारन्यूनतम 31 डिग्री होने से तच उठ रात, बढ़ी...

हाय गर्मी! उर्फ ये गर्मी, ..पारा <bha>@</bha> 45.2
हिन्दुस्तान टीम,झांसीThu, 23 May 2024 06:45 PM
ऐप पर पढ़ें

हाय गर्मी! उफ ये गर्मी, ..पारा @ 45.2

नौतपा के पहले तप उठा गांवों से लेकर शहर, हीट वेव का कहर बरकरार

न्यूनतम 31 डिग्री होने से तप उठी रात, बढ़ी परेशानी

मामूली गिरावट के बाद 10 सालों में सबसे गर्म रहा 23 मई

फोटो नंबर 01 गुरुवार सुबह 10.30 बजे तीखी तपन और लपट के बीच कुछ इस तरह पैक होकर निकलते लोग।

फोटो नंबर 02 सूरज की तपिश और प्रचंड गर्मी के बीच दोपहर 2.30 बजे आवास विकास कॉलोनी मे कर्फ्यू सा नजारा।

झांसी, संवाददाता। ..झुलसाता हुआ सूरज व हीट वेव के कहर से गांवों से लेकर शहर तक पसरा सन्नाटा, ..वीरानी में बाजार, ..सुनसान गली-मोहल्ले, ..हर तरफ हाय गर्मी उफ ये गर्मी की सदाएं और पारा @45.2 डिग्री। गुरुवार को मौसम का सूरत-ए-हाल कुछ ऐसा ही रहा। 45 डिग्री में करीब एक डिग्री गिरावट दर्ज की गई। लेकिन, मौसम तल्खी पूरे रौं में रही। न्यूनतम ताप 31 डिग्री होने की वजह से रातें भी तप उठीं। वहीं गुजरे 10 सालों में गौर करें तो 23 मई सबसे गर्म दिन दर्ज किया गया।

25 मई से नौतपा शुरू होंगे। लेकिन, इससे पहले रानी का शहर झांसी भीषण तरीके से तप उठा है। बीते साल भी प्रचंड गर्मी पड़ी थी। उस वक्त 23 मई को अधिकतम ताप 44.2 डिग्री दर्ज किया गया। इससे पहले 2015 और 19 में ऐसी ही गर्मी पड़ी थी। तब भी इस तारीख को अधिकतम ताप 44 डिग्री और न्यूनतम 29 डिग्री दर्ज किया गया था। हालांकि 2014 और 18 में अधिकतम ताप इस तारीख को 43 डिग्री से ऊपर पहुंचा था। फिर कभी इतना नहीं उठा। 2021 में सबसे कम 39 डिग्री ताप पहुंचा था। वहीं गुरुवार को सुबह 5.27 बजे सूर्योदय हुआ। आठ बजे पारा 34 डिग्री पर पहुंच गया। 10 बजे से लू चलने लगी। 11.30 बजे से हीट वेव के मेल ने झांसीवालों की मुश्किलें बढ़ा दीं। सड़कों पर लोग कान-मुंह, चेहरा ढककर निकले। घंटे-दर-घंटे लपट तीखी होती गई। 12.30 बजते बाजारों, चौक-चौराहों, प्रमुख सड़कों पर सन्नाटा खींचना शुरू किया। आहिस्ता-आहिस्ता हर तरफ से रौनक गायब हो गई। लोग घरों में कैद हो गए। दोपहर ढाई बजे ताप 45.2 डिग्री पर टिक गया जो साढे़ चार बजे तक एक ही स्थिति में रहा। भरारी फार्म स्थित कृषि मौसम इकाई के वैज्ञानिक डा. आदित्य कुमार सिंह के अनुसार आने वाले दिनों में अधिकतम ताप 44 से 46 डिग्री के बीच रहने का अनुमान है। इन दिनों में हीट वेव 18 से 20 किमी रफ्तार से चलने की संभावना है।

साढ़े पांच बजे रहा 42 डिग्री ताप

गुरुवार को झांसी में करीब सात घंटे तक 40 डिग्री से ऊपर पारा रहा। 11.30 बजे अधिकतम ताप 40 डिग्री पहुंच गया था। वहीं शाम 5 बजे लपट, हीट वेवे और मौसम में तल्खी बरकरार रही। आलम यह था कि उस वक्त अधिकतम पारा 42 डिग्री के करीब था। 6.57 बजे सूर्यास्त हुआ। लेकिन, गर्मी पूरे चरम पर थी। मकानों की छतें तप रहीं थी। शाम 7.30 बजे के बाद मोहल्लों-बाजारों में रौनक देखने को मिली।

मोहल्लों में छाई रही वीरानी

गुरुवार को गर्मी ने अब तक के सारे रिकार्ड तोड़ दिए। हर तरफ हाय गर्मी उर्फ गर्मी की ही सदाएं सुनाई दीं। तंग बस्तियों, मोहल्लों से लेकर पॉश कॉलोनियों तक वीरानी छाई रही। इस बीच लू, गर्म हवाएं और तपिश पूरे रौ में रही। मकानों की छतों पर रखी टंकियों का पानी मानो खौल गया हो।

पानी की बढ़ी डिमांड

प्रचंड गर्मी के साथ नगर में पेयजल पदार्थ ही नहीं पानी की डिमांड भी बढ़ गई है। बाजारों में ब्राडेड सहित लोकल पानी की बोतले बिक रही हैं। हालांकि एक लीटर बोतल के दाम 20 रुपए है। एक पेयजल पदार्थ के सेल्स मैनेजर शिवम कहते हैं कि हर रोज विभिन्न दुकानों, होटल, रेस्टोरेंट में करीब 50 से 100 बोतलों के ऑर्डर आ रहे हैं। वहीं पानी कैंपर की भी अचानक डिमांड बढ़ गई है। कालीचरण बताते हैं कि करीब सौ कैंपरों की डेली सप्लाई की जाती है। एक कैंपर की कीमत 20 रुपए है।

बीते चार सालों में 23 मई

साल अधिकतम न्यूनतम

2023 44.2 29

2022 40 24

2021 39 25

2020 40 26

2019 44 28

2018 43.4 30

2017 40.2 27

2016 42 29

2015 44 32

2014 43 30

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।