DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › झांसी › बकरीद आज, घरों में अदा होगी नमाज
झांसी

बकरीद आज, घरों में अदा होगी नमाज

हिन्दुस्तान टीम,झांसीPublished By: Newswrap
Tue, 20 Jul 2021 03:30 PM
बकरीद आज, घरों में अदा होगी नमाज

झांसी। संवाददाता

ईदुल-जुहा (बकरीद) बुधवार खुशियों के बीच मनाई जाएगी। कोरोना काल में प्रमुख ईदगाह सहित शहर की सभी मस्जिदों में कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुरूप नमाज सादगी व अकीदत से अदा होगी। वहीं अधिकांश घरों में इबादत की खुशबू महकेगी और नमाज अदा की जाएगी। बकरीद को लेकर मंगलवार बाजार भी गुलजार रहे। पर्दानशीनों ने भी बाजारों का रुख किया। बकरा मण्डी में साफ-सुथरे बकरों को देखकर सौंदा किया गया। काले चित्तेदार और सफेद धब्बे वाले बकरों की डिमांड रही।

ईदुल-जुहा को लेकर पुलिस-प्रशासन भी खास अलर्ट है। मंगलवार को कानपुर चुंगी, मछली बाजार स्थित बकरा मण्डी, पठौरिया, सूजे खां की खिड़की, राई के ताजिया सहित अन्य स्थानों पर बकरों का बाजार लगा। जिसमें काफी संख्या में लोग खरीदारी को उमड़े। बाजार में बकरों की कीमत 12 हजार से शुरू होकर 40 हजार रुपए तक रही। कानपुर चुंगी पर व्यापारी उस्मान, सलमान बताते हैं कि खस्सी बकरे बडे़ और वजनदार होते हैं। इनकी कीमत भी अलग है। आसपास के इलाकों से बकरे मंगवाए गए हैं। वहीं देसी बकरों की भी डिमांड है। बरबरे बकरे भी काफी खूबसूरत माने जाते हैं। यह भी वजन में अधिक होते हैं। इनकी कीमत भी अलग-अलग है।

मस्जिदों में गाइडलाइन के अनुरूप होगी नमाज

ईदगाह कमेटी के जनरल सेकेट्री याकूब अहमद मंसूरी ने बताया कि बुधवार को प्रमुख ईदगाह पर गाइडलाइन के अनुसार ईदगाह कमेटी के सदस्य व ईदगाह से संबंधित लोग नमाज अदा करेंगे। आम मुस्लिम मुस्लिमो को इजाजत नहीं होगी। शहर काजी पेश इमाम ईदगाह मुफ्ती साबिर कासमी नमाज अदा कराएंगे। आम मुस्लिम अपने घरों और स्थानीय मजिस्दों में कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए नमाज अदा करें।

घरों में मनाएं बकरीद : हैदर अली

कोविड-19 के चलते घरों में रहकर ही लोग बकरीद का पर्व मनाएं। यह बात हैदर अली एक्टर ने कही है। उन्होंने कहा, लोगो को गले न लगाकर बल्कि सलाम करके बकरीद की मुबारकबाद दें। कुरबानी देते समय ये ध्यान रखें कि बकरा कही से खराब न हो यानी उसके चोट न लगी हो, सींग न टूटे हों और हाथ-पैर खराब न हों। जिन पैसों से कुरबानी के लिए बकरा लाते हैं वह पैसे मेहनत के पैसे हों। किसी से उधार न लिए हों, चोरी के पैसे न हों और न ही जुए के पैसे हों। इन पैसों से कुर्बानी कुबुल नही होगी।

संबंधित खबरें