DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गूगल मैप के सहारे आधुनिक ऋृण योजना की होगी शुरूआत

बैंकों से ऋृण लेने वाले अभ्यर्थियों को अब बिचौलियों की मदद नहीं लेनी पड़ेगी। आधुनिक ऋृण योजना के तहत किसानों, छोटे व्यापारियों को उनके गांव में ही बैंकिंग ऋृण योजना का लाभ दिलाया जायेगा। इस कार्य को सरल बनाने में गूगल मैप को मुख्य हथियार बनेगा। संबंधित क्षेत्र के आर.डी.ओ. (रूलर डेवलब मेन्ट आफिसर) टैबलेट लेकर मौके पर जायेंगे। वह वहीं पर ऋृण लेने वाले आवेदक का नाम पता और खसरा. खतौनी दर्ज करते हुए उसकी फोटो खीच कर प्रोफाइल को आनलाइन अपडेट करेंगे। इसमें किसी प्रकार की खामी आती है तो उसे तीन से पांच दिनों में पूर्ण करते हुए यू.एस.के. (यूनियन समृद्धि केन्द्र) में सीधे भेजेंगे। जिसके बाद संबंधित आवेदक को उसकी जरूरत के अनुरूप ऋृण स्वीकृत कराते हुए उसके बैंक खाते में संबंधित रकम भेज दी जायेगी। 

केन्द्र सरकार की इस बहुप्रतिक्षित योजना का शुभारंभ पूर्वी यूपी के जिले जौनपुर के के राकत तहसील से अति शीघ्र शुरू होने जा रही है। इस योजना में तहसील के 21 बैंकों में 17 बैंकों का चयन किया गया है। दरअसल अभी तक बैंकों से विभिन्न प्रकार के ऋृण (लोन) हासिल करने के लिए जरूरत मंदों को बिचौलियों यानि दलालों की मदद लेनी पड़ती थी। इससे दलालों पर नकेल कसी जायेगी और बैंकिंग व्यवस्था पारदर्शी बनेगी। इस संबंध में यूनियन बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक रंजन कुमार ने बताया कि भारत का असली विकास गांवों से होता है। सरकार की मंशा के अनुरूप केन्द्र सरकार की पायलट प्रोजेक्ट योजना की शुरूआत गांवों से करते हुए इसमें ग्रामीणों की सहभागिता विशेष रूप से कराई जा रही है, जिससे गांवों का विकास हो। श्री रंजन का मानना है कि ग्राम्य स्तर पर किसानों के संर्वागीण विकास के लिए हर स्तर पर बैकिंग व्यवस्था को सरल बनाते हुए किसानों के द्वार पर भेजा जा रहा है।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The launch of the modern debt scheme with the help of Google Maps