अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा नेता समेत आठ पर एससी एसटी का मुकदमा

संसद में एससी एसटी संशोधित बिल पास होने के बाद इस एक्ट की धाराओं में शुक्रवार को जिले में पहला मुकदमा दर्ज किया गया। किशुनपुर निवासी भाजपा के सेक्टर प्रभारी चन्द्र कान्त पाण्डेय समेत आठ लोगों को आरोपी बनाया गया है। सरपतहां थाना क्षेत्र में पिछले हफ्ते दो पक्षों में झड़प के बाद एससी एसटी एक्ट के तहत कार्रवाई के लिए पुलिस ने तहरीर दी गई थी लेकिन मुकदमा दर्ज नहीं किया गया। गुरुवार को संसद में बिल पास होने पर पुलिस पर दबाव बनाया गया और शुक्रवार को केस दर्ज हो गया। मामले की जांच सीओ कर रहे हैं। दुमदुमा गांव में दो पक्ष के लड़कों के बीच 2 अगस्त को कहासुनी हुई थी। गांव की सोना देवी ने थाने पर तहरीर देते हुए दलित उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए तहरीर दी थी। लेकिन मुकदमा नहीं दर्ज हुआ। शुक्रवार को महिला ने सीओ अजय श्रीवास्तव से मुलाकात की। सीओ के निर्देश पर पुलिस ने किशुनपुर निवासी चन्द्रकान्त पाण्डेय, उमाकान्त पाण्डेय, कल्लू पाण्डेय, पिन्टू पाण्डेय, बबलू पाण्डेय, रतन तिवारी, सुनील पाण्डेय, विपिन तिवारी के खिलाफ 323, 504 व एससी-एसटी एक्ट व अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। इंस्पेक्टर भैया शिव प्रसाद सिंह ने बताया कि एक हफ्ते पहले मामूली कहासुनी हुई थी। सीओ की जांच के बाद ही अगली कार्रवाई की जायेगी। इस बाबत चन्द्रकांत पाडेय ने बताया कि कोई मारपीट नहीं हुई थी, फर्जी मुकदमा लिखाया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:SC ST lawsuit, including BJP leader,