DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बकाये फीस को लेकर पीयू का रुख कड़ा

वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय डेढ़ सौ कालेजों का परीक्षा परिणाम रोकने की तैयारी में है। इन कॉलेजों पर तीन करोड़ से अधिक फीस बकाया है। फीस बकायेदार कॉलेजों को नोटिस जारी की गयी है। यदि कड़ाई हुई तो एक लाख छात्र प्रभावित होंगे। बकायेदार कॉलेजों की सूची से परिणाम अलग किए जाने की तैयारी चल रही है। परीक्षा से पूर्व पीयू ने ऐसे कॉलेजों का परीक्षा फार्म लेने से इनकार कर दिया था। इसमें सबसे अधिक मामले एसटी/ एससी छात्रों की फीस का था। बाद में ऐसे कॉलेज शासन व कोर्ट की शरण में गये। इसके बाद शासन ने यह कहा था कि छात्रों की शुल्क प्रतिपूर्ति शीघ्र करा दी जायेगी। छात्रों के परीक्षा फार्म जमा कराते हुए परीक्षा में शामिल किया जाय। बाद में विश्वविद्यालय प्रशासन ने कॉलेजों से शपथ पत्र लेकर छात्रों को परीक्षा में शामिल कर लिया। उधर, शासन ने शुल्क प्रतिपूर्ति कॉलेजों के खाते में न देकर सीधे छात्रों को खाते में दे दिया है। शपथ पत्र के मुताबिक एक माह अधिक बीत गए लेकिन कॉलेजों ने फीस नहीं जमा की। कॉलेजों को फीस जमा करने के लिए कड़ा तेवर अपनाते हुए पीयू ने जौनपुर के 15, आजमगढ़ के 53, गाजीपुर के 48, मऊ के 42 कालेजों को नोटिस जारी की है। लेकिन कॉलेजों ने मौन साध लिया है। सूत्रों की मानें तो पीयू परीक्षा के अधिकतर परिणाम तो तैयार हैं लेकिन शुल्क बकायेदार डेढ़ सौ कालेजों के परीक्षा परिणाम नहीं घोषित करेगा। इसके कारण एक लाख छात्रों के सामने मुश्किलें पैदा हो जाएंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:PU stands firm on outstanding fees