अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अधीक्षक के दुर्व्यवहार पर भड़कीं कार्यकत्रियां, हंगामा

स्थानीय सीएचसी पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भाषण सुनने आई आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के साथ अधीक्षक द्वारा दुर्व्यवहार करने से मंगलवार को वहां खासा हंगामा हो गया। नाराज कार्यकत्रियों ने चिकित्सा अधीक्षक के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए कार्यक्रम का बहिष्कार कर दिया। बाद में अधीक्षक डा. रफीक फारूकी ने खुद माफी मांगी तो विवाद शान्त हुआ।  
आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों से सीधा संवाद स्थापित करने के लिए पीएम का लाइव कांफ्रेंसिंग भाषण सुनने के लिए स्थानीय सीएचसी पर सभी को बुलाया गया। इस दौरान मौजूद आशा, एएनम व आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों से कुर्सी के बजाय जमीन पर बैठने के लिए कहा गया। इस पर अधीक्षक डा. रफीक फारुखी व आंगनबाड़ी कार्यकत्री जड़ावती देवी से विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ा कि अधीक्षक ने कार्यकत्रियों पर अशोभनीय टिप्पणी कर दी। इससे एएनएम, आशा व आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां नारेबाजी करते हुए कार्यक्रम का बहिष्कार करने लगी। अचानक हुए इस घटनाक्रम से सभी लोग हैरत में पड़ गए। अधीक्षक डा. रफीक फारूकी को खरीखोटी सुनाने लगे। सीडीपीओ दीपक चौबे ने आंगनबाड़ी कार्यकर्त्रियों को अधीक्षक द्वारा दिए गए अशोभनीय टिपण्णी पर माफी मांगने की जानकारी दी। इसके बाद विवाद शान्त हुआ। इस मौके पर अनिता श्रीवास्तव, रीता देवी, आशा यादव, कांती देवी, इंदु देवी, देवी श्रीवास्तव, शारदा देवी सहित सैकड़ों आंगनबाड़ी कार्यकर्ती मौजूद रही। उधर चिकित्सा अधीक्षक रफीक फारुखी ने इस संबंध में बताया कि कांफ्रेसिंग कार्यक्रम में संख्या  अधिक होने पर बाहर जा रही कार्यकत्रियों को उन्होंने लाइव कार्यक्रम पूरा देखकर जाने के साथ बदमाशी नहीं करने की बात कही थी। किन्तु उन्होंने उनकी बात का  गलत मतलब निकाला। इसके लिए हमने क्षमा मांग ली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Hot celebrities on superintendent misbehavior