DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हवन पूजन के साथ हुआ शारदीय नवरात्र का समापन

शारदीय नवरात्र के अंतिम दिन शुक्रवार को श्रद्धालुओं ने हवन किया। नवमी तिथि पर मां भगवती के सिद्धिदात्री स्वरूप का दर्शन पूजन किया गया। विसर्जन घाट स्थित नवदुर्गा शिव मंदिर में सुबह मां के सिद्धिदात्री स्वरूप का दर्शन करने श्रद्धालुओं की भीड़ लगी थी। शीतला चौकिया धाम व मैहर मंदिर में भी नवरात्र के अंतिम दिन भारी संख्या में देवी भक्तों ने दर्शन पूजन किया।

शीतला चौकिया धाम मंदिर का पट दर्शनार्थियों के लिए भोर में चार बजे खोल दिया गया। दर्शन पूजन के बाद दोपहर में मंदिर परिसर में हवन यज्ञ हुआ। इसमें मंदिर के पंडा-पुजारी के अलावा दर्शन पूजन करने वाले श्रद्धालुओं ने भी भाग लिया। इसी प्रकार मैहर मंदिर में भी पांच बजे से दर्शन पूजन शुरू हो गया था। यहां भी हवन कर नवरात्र महोत्सव का समापन किया गया। नवदुर्गा शिव मंदिर विसर्जन घाट पर भी हवन किया गया। सिटी स्टेशन रेलवे क्रासिंग के पास स्थित आद्याशक्ति दक्षिणा काली मंदिर में भी हवन पूजन कर नवरात्र की समापन किया गया। मंदिर के संस्थापक भगवती सिंह वागीश ने श्रद्धालुओं के बीच काली जी की महिमा पर प्रकाश डाला।

हिसं सिकरारा के अनुसार खानापट्टी गांव स्थित अवधूत कुटी पर कुमारी पूजन तथा हवन के साथ शारदीय नवरात्र सम्पन्न हुआ। कुटी के सेवक दीप राज ने बताया कि अघोर पंथ में मूर्ति में प्राण प्रतिष्ठा करना और उसे जल समाधि देना वर्जित है। इसलिए कुटी पर 11 वर्ष से कम वय की कुंवारी कन्याओं को देवी के नौ रूपों में तथा एक बालक को भैरव रूप में पूजा अर्चना के बाद छप्पन भोग लगवा कर उनके जूठन से व्रती महिलाओं ने व्रत का पारण किया। यथा शक्ति उन्हें द्रव्य दान कर विदाई की। इस मौके पर सत्य नाथ सिंह, दुष्यंत कुमार, बाबा यादव, सुशील सिंह, शरद सिंह, अवनीश, इंद्र सेन सिंह, मालती सिंह, लालती देवी, अवधेश सिंह, जितेंद्र सिंह, उदय राज यादव, जड़वती देवी, रामधारी निषाद अन्य रहे।

गायत्री प्रज्ञा मंडल महिला मंडल जज कालोनी में पांच कुन्डीय गायत्री महायज्ञ के साथ नवरात्र का समापन हुआ। नगर तथा आसपास इलाके से आए श्रद्धालुओं ने हवन में आहुति डाली। तत्पश्चात मां भगवती की आराधना की गई। आचार्य देशवन्धु पद्माकर मिश्र ने विचार व्यक्त किया। तत्पश्चात 151 दीपों से आरती की गई। शिव कुमार सिंह, शिव कुमारी मिश्रा, गंगोत्री सिंह, निर्मला मिश्रा, चांदनी श्रीवास्तव, च्द्रकला राय, पूनम सिंह, देवेन्द्र राय, सतीश मौर्य समेत अन्य रहे।

कन्या पूजन कर खिलाई गई छोहरी

जौनपुर। घर में कलश स्थापित कर नवरात्र में नौ दिन व्रत रखने वाले श्रद्धालु शुक्रवार को कन्या पूजन कर छोहरी खिलाए। देवी व्रत में कन्या पूजन आवश्यक माना गया है। नवरात्र के अंतिम दिन नौ कुमारियों का चरण धोकर उन्हें देवी स्वरूप मानकर गन्ध, पुष्पादि से अर्चनकर रुचपूर्ण मिष्ठान युक्त भोजन कराया गया। नौ दिनों तक व्रत रखने वाली कई महिलाएं शीतला चौकिया धाम व मैहर मंदिर में भी कुमारी कन्याओं का पूजन कर छोहरी खिलाई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Conclusion of Shardi Navaratri with Havan Poojan