DA Image
6 मार्च, 2021|11:57|IST

अगली स्टोरी

नहर टूटने से 70 बीघा किसानों की फसल जलमग्न

नहर टूटने से 70 बीघा किसानों की फसल जलमग्न

केराकत । हिन्दुस्तान संवाद

थानागद्दी गांव में नहर टूटने से एक दर्जन किसानों की कुल लगभग 70 बीघे गेंहू की फसल पानी से जलमग्न हो गई । फसल डूब जाने से किसानों में हाहाकार मचा है। किसानों का कहना है कि उनकी साल भर की पूरी खेती खराब हो गई।

शारदा सहायक खंड 36 का देवनाथपुर रजवाहा बीती रात दिलीप यादव के घर के पास टूट गया । जिससे थानागद्दी गांव के उमेश चंद्र शुक्ला, प्रहलाद शुक्ला, अशोक शुक्ला, नंदलाल शुक्ला, जगदीश शुक्ला, रमेश मिश्रा, दिनेश मिश्रा, चेखुरी मिश्रा, प्रभाकर मिश्रा, ब्रम्हदेव मिश्रा, विजयी मिश्रा आदि का करीब 70 बीघा गेंहू और सरसो का खेत जलमग्न हो गया ।

सुबह खेतों की ओर टहलने निकले किसानों ने खेतों को जलमग्न देखा तो उनके होश फाख्ता हो गए । उन्होंने नहर को बांधने का प्रयास किया लेकिन बहाव तेज होने से पर बांध नहीं सके। नहर विभाग को सूचना दी गई लेकिन दोपहर तक कोई कर्मचारी देखने तक नहीं पहुंचा । खेत के जलमग्न हो जाने से किसानों में हाहाकार मच गया है ।

किसानों का कहना है कि उनकी इस साल की पूरी खेती खराब हो गई। शिकायत है कि सिल्ट की सफाई के नाम पर ठेकेदार नहर की गहराई में सिल्ट हटाने के वजाय नहर की दीवारों को छीलकर पतला कर दिया है। नतीजा पानी का दबाव पड़ते ही नहर टूट जाती है । किसान दिलीप यादव ने बताया कि पहले नहर की अच्छी खासी पटरी थी जिसपर से लोगों का आना जाना होता था ।

लोग उस पटरी से पैदल या मोटरसाईिकल आदि से आते जाते थे लेकिन अब पटरी का नामोनिशान नहीं है । आवागमन पूरी तरह बंद हो गया है । विदित हो कि नहर विभाग की लापरवाही से हर साल नहर कहीं न कहीं टूट जाती है और किसानों की गाढ़ी मेहनत और लागत से बोई गई कई कई बीधे की फसल डूब जाती है ।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:70 bigha farmers crop submerged due to canal breakdown