DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सादाबाद में मुफिलिसी में गई बच्ची की जान

सादाबाद में मुफिलिसी में गई बच्ची की जान

सादाबाद के गांव वेदई के मजरा नगला हट्टी में झकझोर देने वाला मामला सामने आया। यहां मुफलिसी में एक मजदूर की मासूम बेटी ने दम तोड़ दिया वहीं दूसरी बच्ची आगरा के एक निजी अस्पताल में भर्ती है। बच्ची की मौत से प्रशासन में हड़कंप है। हालांकि अधिकारी जांच की बात और बच्ची को बुखार आना बताया जा रहा है। नगला हट्टी में भूरी सिंह का परिवार कच्चे कमरे के आगे पड़े टिन शेड के नीचे जीवन यापन कर रहा है। परिवार में पत्नी सोनिया के अलावा पांच बेटियां हैं। बीते करीब दो महीने से भूरी सिंह का परिवार लाचारी, मुफलिसी की मार झेल रहा है। ग्रामीणों के रहमो-करम पर बच्चों का पेट पल रहा था। ग्रामीणों के अनुसार चार दिन से घर में खाने-पीने के लिए कुछ नहीं था। सोमवार शाम को झाडू लगाते समय भूरी सिंह की करीब आठ साल की बेटी खुशी बेहोश होकर गिर पड़ी। कुछ ही देर बाद पांच वर्षीय छोटी बहन अनु भी बेहोश हो गई। आनन-फानन में दोनों को सादाबाद सीएचसी लाया गया। यहां से दोनों बहनों को आगरा रेफर कर दिया गया। आगरा ले जाते समय आठ वर्षीय खुशी ने दम तोड़ दिया। अनु का आगरा के निजी अस्पताल में उपचार चल रहा है। मौके पर एसडीएम ज्योत्सना बंधु पहुंची। क्षेत्रीय राशन डीलर, राजस्व निरीक्षक, लेखपाल भी जांच के लिए मौके पर पहुंचे। मौके पर पहुंचे प्रधान मिथलेश देवी के बेटे बबलू ने स्वीकारा की भूरी सिंह के परिवार की हालत बहुत खस्ता है। देखना होगा कि प्रशासन भूरी सिंह की कितनी मदद कर पाता है। जबकि भूरी सिंह के पास जमीन, जायदाद तो दूर की बात है राशन कार्ड भी नहीं है। पुलिस ने खुशी के शव को पीएम के लिए भेजा है।

भूख से मृत्यु जैसी कोई बात नहीं। बच्ची को बुखार आया था। उसी से उसकी हालत बिगड़ी। उसकी एक बहन को भी बुखार है। उसका आगरा में उपचार कराया जा रहा है। सादाबाद एसडीएम जांच कर रही हैं। बच्ची का पोस्टमार्टम कराया जाएगा। -डॉ. रमाशंकर मौर्य, जिलाधिकारी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Death of baby to poverty girl in Sadabad