DA Image
22 अक्तूबर, 2020|8:59|IST

अगली स्टोरी

आधार कार्ड को लेकर युवाओं को जमकर प्रदर्शन

आधार कार्ड को लेकर युवाओं को जमकर प्रदर्शन

आधार कार्ड बनने में हो रही परेशानी के विरोध में नगर के सैकड़ों युवाओं ने सीओ कार्यालय के सामने धरना-प्रदर्शन किया। जिला प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इसके बाद में मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन तहसीलदार अंबिका चौधरी को सौंपा। आरोप लगाया कि आधार कार्ड बनवाने व त्रुटि ठीक कराने के लिए लोग दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं। जिम्मेदार समस्या को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। बाद में सीओ ने समझा बुझाकर लोगों को शांत कराया। तहसीलदार ने जल्द समस्या का समाधान कराने का आश्वासन दिया।

लॉकडाउन अवधि में आधार कार्ड बनाने का काम कई महीनों तक बंद रहा। अब जब कार्ड बनने का काम शुरू हुए टोकेन सिस्टम लागू कर दिया गया है। कसबे में एक दिन में मात्र 25 टोकेन दिए जाने का नियम बना दिया गया। जिससे सैकड़ों लोगों में निराशा फैल गई। महीनों दौड़ लगाने के बाद भी उनके आधार नहीं बन पा रहे हैं। वहीं नगर में केवल पोस्ट ऑफिस व स्टेट बैंक में ही आधारकार्ड बनाने की विंडो खोली गई। इन दोनों स्थानों पर आधार बनवाने के लिए लोग रात से ही लाइन में लग जाते हैं। दिन चढ़ते भीड़ बढ़ने लगती है। टोकेन न मिलने पर लोग धक्का मुक्की व शोर शराबा करते है। तब पुलिस को लाठी फटकारनी पड़ती है।

गुरुवार की सुबह पोस्ट आफिस के बाहर लगी लम्बी लाइन पर पुलिस द्वारा डंडे फटकारे जाने से नाराज कुछ नवयुवक भड़क गए। उन्होंने पुलिसिया कार्यवाही के खिलाफ सीओ दफ्तर के सामने काफी देर तक धरना-प्रदर्शन किया। नारेबाजी की। हंगामा करते हुए कहा कि आधार कार्ड बनाने की व्यवस्था ठीक की जाए। डाक विभाग में कर्मचारियों की कमी है। ऐसे में जनसेवा केंद्रों को भी आधार ठीक करने के लिए अधिकृत किया जाए। जनसेवा केंद्र बड़ी संख्या में हैं। यदि वहां आधार ठीक होने लगेंगे तो लोगों को मुश्किलों से छुटकारा मिल जाए। मौजूदा समय में जिस तरह से आधार बनाए जा रहे हैं उससे तो कई महीने तक समस्या बरकरार रहेगी।

आधार कार्ड बनवाने के लिए डाकघर में उमड़ रहे हजारों लोगों की भीड़ कोरोना को फैलने के लिए दावत दे रही है। बगैर मास्क लगाए लोग एक-दूसरे से सटकर खड़े होते हैं। इसके बावजूद अधिकारी इस समस्या का बेहतर उपचार खोजने का प्रयास नही कर रहे हैं। डाकघर के कर्मचारी दफ्तर के दरवाजे बंद कर काम कर रहे हैं। वहीं खिड़की के पास लोग झुंड के रूप में जमा होकर मारामारी करते हैं।

सयुस जिलाध्यक्ष हरिनाम सिंह यादव का कहना है कि सरकार व जिला प्रशासन को आम जनता की समस्याओं से कोई लेना देना नहीं है। एक पखवारे से आधार कार्ड बनवाने के लिए हजारों लोग परेशान हैं। सोशल डिस्टेंस टूट रहा है पर सत्ता पक्ष के नेता व प्रशासन आंखें मूंदे बैठा है। धरातल पर समस्याओं का निस्तारण नहीं हो रहा है। ज्यादा स्टाफ लगाकर आधार बनवाए व ठीक कराए जाएं। यदि सरकार ऐसा नहीं कर सकती तो विभिन्न योजनाओं में आधार कार्ड लगाने की बाध्यता में छूट दी जाए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Youngsters demonstrate fiercely about Aadhaar card